पेट्रोल की कीमत में 6 पैसे वहीं डीजल के दाम में 7 पैसे की मामूली गिरावट आई

मुबंई, 12 मार्च। आज देश की सबसे बड़ी सरकारी तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड ने रविवार 12 मार्च 2019 को पेट्रोल की कीमत मे 6 पैसे वहीं डीजल के दाम में 7 पैसे की मामूली गिरावट आई। आज राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 72.41 रुपए प्रति लीटर के करीब और डीजल 67.37 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है। देश की राजधानी दिल्ली में पेट्रोल का भाव 72.41 रुपए प्रति लीटर हो गया वहीं कोलकाता में पेट्रोल 74.49 रुपए प्रति लीटर है। मुंबई में पेट्रोल 78.04 रुपए प्रति लीटर और चेन्नई में पेट्रोल 75.50 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है।
डीजल की कीमत
देश की राजधानी दिल्ली में डीजल 67.37 रुपए प्रति लीटर हो गया है वहीं कोलकाता में डीजल 69.16 रुपए प्रति लीटर मिल रहा है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में डीजल 70.58 रुपए प्रति लीटर और चेन्नई में 71.20 रुपए प्रति लीटर हो गया है।
पंजाब में पेट्रोल-डीजल के दाम
आज पंजाब के जालंधर की बात करें तो यहां पेट्रोल के दाम 72.30 हो गए। वहीं लुधियाना में पेट्रोल 72.78 रुपए, अमृतसर 72.88 रुपए, पटियाला में 72.68 रूपए और चंडीगढ़ में 68.47 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है।
इस रास्ते से भेजा जा रहा सामान
पाकिस्तान को टमाटर सप्लाई के सबसे बड़े केंद्र आजादपुर में टमाटर व्यापार संघ के प्रेजिडेंट ने बताया, ‘तनाव घटने के साथ सप्लाई शुरू हुई है, लेकिन ट्रेड के लिहाज से इसे नॉर्मल नहीं कहा जा सकता। अभी सिर्फ श्रीनगर-मुजफ्फराबाद मार्ग से ही रोजाना 15 से 20 ट्रक माल जा रहा है जबकि आम दिनों में पाकिस्तान को रोजाना 75 से 100 ट्रक सप्लाई होती है।Ó उन्होंने बताया कि अटारी रूट से दिल्ली से पाकिस्तान की मंडियों तक माल पहुंचाने का आम खर्च 25,000 रुपए प्रति ट्रक होता है, जो श्रीनगर मार्ग से 50,000 से लेकर 1 लाख रुपए तक पहुंच गया है। कश्मीर में एंट्री पर अतिरिक्त चार्जेज हैं लेकिन कई पॉइंट्स पर अनधिकृत वसूली से यह खर्च और बढ़ जाता है।
ट्रेडर्स ने अब अटारी-वाघा मार्ग से सप्लाई शुरू करने के लिए सरकार को संपर्क शुरू कर दिया है और इसके लिए किसानों के हितों का हवाला दिया जा रहा है। 14 फरवरी को पुलवामा हमले के बाद दोनों देशों के रिश्तों में शुरू हुई तल्खी और व्यापारिक संबंध खराब होने से टमाटर व्यापारियों ने खुद ही सप्लाई रोक दी थी लेकिन उनके लिए अपने सप्लायर्स और ग्रोअर्स को जवाब देना मुश्किल हो रहा है, क्योंकि कई ग्रोअर्स के साथ उनके पहले से कॉन्ट्रैक्ट होते हैं। टमाटर के अलावा लहसुन और कई अन्य सब्जियां भी यहां से पाकिस्तान जाती हैं और उधर से कुछ फलों की आवक होती है।