लडऩा है तो किसी कठिन सीट से लोकसभा चुनाव लड़ें दिग्विजय


कमलनाथ ने नकुलनाथ को राजनैतिक उत्तराधिकारी बनाया, पत्रकारों से कहा

छिंदवाड़ा, 16 मार्च। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को कहा कि उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह से आग्रह किया है कि यदि वह लोकसभा चुनाव लडऩा चाहते हैं तो कांग्रेस के लिए प्रदेश में कुछ कठिन सीटों में से एक पर वह चुनाव लड़ें।कमलनाथ ने यहां संवाददाताओं से कहा, मैंने दिग्विजय सिंह से आग्रह किया है कि यदि वह चुनाव लडऩा चाहते हैं तो वह किसी कठिन सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ें। परोक्ष तौर पर भोपाल और इन्दौर जैसी लोकसभा सीटों की बात करते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश में 2-3 लोकसभा सीटें ऐसी हैं जहां से हम 30-35 सालों से जीते नहीं हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, पूर्व मुख्यमंत्री सिंह स्वयं तय कर लें कि वह कहां से चुनाव लडऩा चाहते हैं।एक सवाल के उत्तर में उन्होंने कहा कि अगले 3-4 दिन में लोकसभा चुनाव में मध्यप्रदेश से कांग्रेस उम्मीदवारों के टिकट वितरण का काम शुरू होगा। कांग्रेस सूत्र के मुताबिक, कमलनाथ चाहते हैं कि दिग्वियज सिंह भोपाल लोकसभा सीट से चुनाव लड़ें। भोपाल से कांग्रेस वर्ष 1989 के बाद से चुनाव नहीं जीती है। मुख्यमंत्री कमलनाथ दो दिवसीय छिंदवाड़ा के दौरे पर पहुंचे हैं। यहां वह 11 चुनावी सभाओं को संबोधित करेंगे। इस बार छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से कमलनाथ के पुत्र नकुल नाथ के कांग्रेस उम्मीदवार बनने की उम्मीद है। इसके साथ ही कमलनाथ 29 अप्रैल को छिंदवाड़ा से विधानसभा सीट का उपचुनाव लड़ेंगे। कमलनाथ छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से नौ दफा सांसद रहे हैं। मुख्यमंत्री बनने के बाद नियमानुसार छह माह के अंदर उन्हें मध्यप्रदेश विधानसभा का सदस्य निर्वाचित होना है। उपचुनाव कराने के लिए दीपक सक्सेना ने छिंदवाड़ा विधानसभा सीट से इस्तीफा देकर कमलनाथ के लिए रास्ता साफ कर दिया था।


मैंने अपनी जवानी छिंदवाड़ा को समर्पित कर दी : कमलनाथ

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शनिवार को अपने गृहक्षेत्र छिंदवाड़ा में कहा कि उन्होंने पिछले चालीस साल से इस क्षेत्र की सेवा की है और अब वे ये जिम्मेदारी अपने पुत्र नकुलनाथ को सौंपते हैं। कमलनाथ ने छिंदवाड़ा के हरई विकासखंड के ग्राम बटकाखापा में आयोजित जनसभा में कहा कि उन्होंने इस क्षेत्र की लगातार 40 साल से सेवा की, अपनी जवानी उन्हें समर्पित की है। अपनी जिंदगी का अहम हिस्सा इस क्षेत्र को समर्पित किया और अब वे यह जिम्मेदारी अपने पुत्र नकुलनाथ को सौंपते हैं।कमलनाथ के बड़े बेटे नकुलनाथ ने कहा कि उनके पिता ने जो जिम्मेदारी उन्हें सौंपी है, उसे वे अपने कंधे पर ले सकते हैं और क्षेत्र के लोगों से उन्हें बहुत प्यार, स्नेह व विश्वास मिला है।नांदनवाडी की सभा में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कर्जमाफी को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं पर मजाक उड़ाने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि कांग्रेस सरकार ने खाली खजाना होने के बावजूद किसानों और युवाओं से किए वचन निभाए हैं। कमलनाथ ने जिले के बटकाखापा, देलाखारी, छिंदी रामपुर और नांदनवाडी ग्रामों में जन सभाओं को संबोधित किया। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले ही भाजपा सरकार ने खजाना खाली कर दिया था, लेकिन किसानों की कर्ज माफी और बेरोजगार युवाओं को दिया वचन निभाना था। भाजपा नेता इस मुद्दे पर हंस रहे थे, उन्हें लग रहा था कि कमलनाथ कैसे किसानो का कर्ज माफ करेंगे। कैसे युवाओं को रोजगार देंगे, लेकिन कांग्रेस सरकार ने जो वचन दिया था, उसे निभाकर किसान और बेरोजगारों का सम्मान रखा।