नागपुर के भरोसे नहीं चल सकता है देश: राहुल गांधी

नई दिल्ली, 19 मार्च। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि संघ और भाजपा के लोग पूरे हिंदुस्तान पर एक विचारधारा थोपना चाहते हैं। नागपुर की सोच को पूरे हिंदुस्तान में फैलाना चाहते हैं, लेकिन नागपुर के भरोसे देश नहीं चल सकता है। इसके अलावा संघ और भाजपा स्थानीय संस्कृतियों को खत्म करना चाहते हैं। राहुल ने कहा प्रतिभावान लोगों को मौका देने के बजाए विश्वविद्यालयों और शिक्षण संस्थानों में संघ और भाजपा के लोगों को प्राथमिकता दी जा रही है।
राहुल ने योजना आयोग खत्म करने को लेकर भी प्रधानमंत्री पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि आज तक किसी को नहीं पता कि नीति आयोग क्या कर रहा है। वहीं, योजना आयोग पहले सोच-समझ कर और रणनीति बनाकर काम करता था। राहुल ने कहा कि हम ऐसा हिंदुस्तान नहीं चाहते, जहां अलग-अलग इलाकों में बैठे लोगों के लिए दिल्ली से फैसला लिया जाए।
राहुल गांधी ने कहा कि नागरिकता संशोधन बिल को कांग्रेस किसी भी कीमत पर पास नहीं होने देगी। राहुल ने कहा कि पूर्वोत्तर की संस्कृति, भाषा और लोगों पर इससे बड़ा आक्रमण नहीं हो सकता है। ये पूर्वोत्तर के लोगों को कमजोर करने का तरीका है। राहुल गांधी ने एक बार फिर यहां पर चौकीदार चोर है का नारा दोहराया। राहुल ने कहा कि 30 हजार करोड़ रुपये की चोरी आपने की है और पैसा अपने दोस्त अनिल अंबानी को दे दिया, लेकिन आप पूरे देश को चौकीदार क्यों बना रहे हैं? राहुल गांधी ने कहा कि पुलवामा आतंकी हमले के गुनहगार को चीन ने बचा लिया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के राष्ट्रपति के साथ गुजरात में झूला झूल रहे थे। नरेंद्र मोदी की देशभक्ति यही है।
मोदी बाबा और 40 चोरों की टीम ने देश को लूटा: सुरजेवाला: कांग्रेस ने बीजेपी की मैं भी चौकीदार सोशल मीडिया कैंपेन पर निशाना साधा है। पार्टी प्रवक्ता प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि आजकल चौकीदार की चोरी की देशभर में चर्चा है। मोदी बाबा और 40 चोर अपने नाम के आगे चौकीदार लगाकर बहरूपिया बनकर फिर से देश की जनता को ठगना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि ब्रांड फ्लॉप हो जाने के बाद नाम बदलकर फिर से नया प्रोपेगेंडा करने की कोशिश होती है, सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि मोदीजी की विफलताओं को छुपाने के लिए बार-बार बीजेपी को नई ब्रांडिंग करनी पड़ रही है।

इंदिरा गांधी की तर्ज पर उतरीं प्रियंका
पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी की तर्ज पर उनकी पौत्री प्रियंका गांधी भी चुनाव प्रचार के दौरान गंगा यात्रा, मंदिरों के दर्शन, पूजा अर्चना में लीन हैं। इसी प्रकार से इंदिरा गांधी भी अपने कार्यकाल के दौरान चुनाव प्रचार में देवी मंदिरों और गंगा की पूजा अर्चना भी की थी। अब आने वाला लोकसभा चुनाव और उसके परिणाम यह बताएंगे कि प्रियंका गांधी इंदिरा गांधी की तरह कितनी सफल होंगी।