ज्योत्सना महंत को महिला मतदाताओं पर भरोसा !

विशेष रिपोर्ट
विजय कुमार दास

कोरबा संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस की प्रत्याशी ज्योत्सना महंत को क्षेत्र की महिला मतदाताओं पर ज्यादा भरोसा है। इस क्षेत्र में करीब 15 लाख मतदाता है। जिनमें से 50 फीसदी संख्या महिला मतदाताओं की है। 40 फीसदी ओबीसी मतदाता हैं। कांग्रेस प्रत्याशी ओबीसी वर्ग से ही हैं। राष्ट्रीय हिन्दी मेल ने कोरबा संसदीय क्षेत्र में एक सर्वे किया है। जिसमें भाजपा को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के पुलवामा कांड के सर्जिकल स्ट्राइक और हिन्दुत्ववादी होने का जो असर है, वह यहां आंशिक रुप से दिखाई दे रहा है। वहीं राहुल गांधी के गरीबों के खाते में हर साल 72 हजार रुपए देने की घोषणा का अच्छा- खासा असर है। ग्रामीण क्षेत्रों यानि कटघोरा, रामपुर, पाली-तानाखार में इस घोषणा का ज्यादा असर है। यहां के 35 प्रतिशत मतदाताओं का मानना है कि 72 हजार रुपए खाते में मिलेंगे। इसका आकर्षण बढ़ा है। 30 से 35 फीसदी मतदाता यह भी कहते हैं कि मोदी की सरकार फिर से आनी चाहिए। लेकिन कोरबा संसदीय क्षेत्र में ज्योतिनंद दुबे जो भारतीय जनता पार्टी का उम्मीदवार हैं, वह बहुत कमजोर हैं। इस क्षेत्र की महिला मतदाता राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से बेहद प्रभावित हैं। इसके पीछे मतदाताओं का कहना है कि प्रियंका गांधी में उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की छवि दिखती है। वैसे भी छत्तीसगढ़ में इंदिरा गांधी को दुर्गा का अवतार माना जाता है और प्रियंका के आने के बाद उनको ऐसा लग रहा कि इंदिरा गांधी ने फिर से अवतार ले लिया है। राष्ट्रीय हिन्दी मेल की टीम ने कोरबा संसदीय क्षेत्र के 100 लोगों से अलग-अलग क्षेत्रों में जाकर मतदाताओं की राय जाननी चाही जिससे यह पता चला कि 35 फीसदी मतदाता स्पष्ट रुप से कांग्रेस के पक्ष में है। वही 35 फीसदी मतदाता यह कहते हैं कि मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनना चाहिए। लेकिन आम जनता क्या कहती है इस सवाल के जवाब में अपना नाम न छापने की शर्त पर लोगों का कहना है कि 72 हजार रुपए का जो गेम चेंजर प्लान कांग्रेस का है वह काफी प्रभावशाली है। महिलाएं राहुल गांधी की इस घोषणा से खुश नजर आ रही है। दूसरी तरफ महिला मतदाताओं का झुकाव ज्योत्सना महंत की तरफ इसलिए भी है कि एक तो वह महिला है और दूसरी पिछड़ी वर्ग जाति की है। ओबीसी महिलाओं के साथ-साथ आदिवासी महलिाओं का भी झुकाव कांग्रेस प्रत्याशी की ओर है। क्योंकि इस क्षेत्र में ज्योत्सना महंत के परिवार ने काफी कुछ किया है। इसके पहले 2009 में महिला प्रत्याशी करुणा शुक्ला कांग्रेस के डॉ. चरणदास महंत से हार चुकीं हैं। ज्योत्सना महंत अगर चुनाव जीततीं हैं तो इस क्षेत्र से पहली महिला सांसद होंगी।

चरणदास महंत नहीं करेंगे चुनाव प्रचार
कोरबा से कांग्रेस प्रत्याशी ज्योत्सना महंत के पति डॉ. चरणदास महंत उनके पक्ष में चुनाव प्रचार नहीं करेंगे। लेकिन उनके समर्थक पूरे क्षेत्र में चुनाव प्रचार में उतर गए हैं। डॉ. महंत विधानसभा अध्यक्ष जैसे संवैधानिक पद में होने के कारण अपने आप को एक कमरे में बंद कर लिया। उनके समर्थक डॉ. महंत से मिलने की कोशिश भी करते हैं लेकिन वे किसी से नहीं मिल रहे हैं।