कर्जमाफी नहीं, किसानों का अकाउंट एनपीए किया सरकार ने : नरोत्तम

86 दिन बाद भी माफ नहीं हुआ किसी किसान का 2 लाख तक का कर्ज

राजनीतिक संवाददाता
भोपाल, 28 मार्च।
मध्यप्रदेश विधानसभा में भाजपा के मुख्य सचेतक डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने आज कमलनाथ सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है। उनका कहना है कि सरकार कर्जमाफी की आड़ में किसानों के बैंक अकाउंट को एनपीए करा रही है इसका मतलब ये है कि मप्र के अन्नदाता जिनका कर्जमाफी हुआ है अब वह भविष्य में किसी अन्य बैंक से किसी भी प्रकार का ऋण नहीं ले सकते, यह किसानों के साथ एक बड़ा छलावा है। मध्यप्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने एक बार फिर कमलनाथ सरकार पर किसानों को छलने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि सरकार बनने के 86 दिन बाद भी प्रदेश के किसी किसान का 2 लाख रूपए तक का कर्ज माफ नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि यदि कोई भी किसान कर्ज माफी की एनओसी दिखा दे तो वे उसे दो लाख रूपए देंगे।
गौरतलब है कि नरोत्तम मिश्रा ने कर्जमाफी को लेकर घोषणा की थी कि अगर किसी किसान का दो लाख का कर्ज माफ हुआ है तो वो उनसे दो लाख का इनाम ले जाए। इस पर बुधवार को पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा, मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता, प्रवक्ता दुर्गेश शर्मा व रवि सक्सेना और अनुसूचित जनजाति विभाग के प्रदेश अध्यक्ष अजय शाह के नेतृत्व में कांग्रेस नेताओं का प्रतिनिधिमंडल डॉ. मिश्रा के निवास पहुंचा था। यहां उन्हें कमलनाथ सरकार द्वारा एक लाख 90 हजार से लेकर दो लाख तक की कर्जमाफी से लाभान्वित किसानों की प्रमाणित सूची दी। डॉ. नरोत्तम मिश्रा को कांग्रेस नेताओं ने सूची सौंपते हुए कहा कि अब वे अपने वादे के अनुरूप दो-दो लाख रुपए दें। वहीं अब मिश्रा ने नया खुलासा किया है और सरकार पर आरोप लगाया है। अब इस मामले में नरोत्तम मिश्रा ने भी बड़ा खुलासा किया है। उनका कहना है कि कमलनाथ सरकार जिन किसानों के दावे कर रही है, उनके खाते एनपीए मे डाल दिये गए हैं, वे कभी कर्ज नही ले पाएंगे। नरोत्तम मिश्रा ने कहा कांग्रेस पार्टी को सबूत मांगने और देने का खुमार चढ़ा है। पुलवामा अटेक का सबूत मांगते हैं सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांगते हैं। कल कांग्रेस के कुछ लोग आये थे और उन्होंने जो सूची मुझे दी, मैंने उन लोगो में से कुछ से आज बात की। जिनमें से एक भी व्यक्ति पर दो लाख का कर्जा था ही नहीं। मिश्रा ने कहा किसी भी किसान को अभी तक अनापत्ति प्रमाण पत्र नहीं दिया है। 2 लाख माफी के संदेश भेज दिए गए, लेकिन उस किसान पर कर्जा ही नहीं था। कांग्रेस के पास अगर बैंक का प्रमाण पत्र नो ड्यूज हो तो मैं दो लाख दूंगा, मैं अपनी बात पर अडिग हूं।
पूर्व मंत्री ने कहा- कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि अगर 10 दिन में 2 लाख का कर्ज माफ नही होगा तो मुख्यमंत्री बदल देंगे, 86 दिन हो गए हैं। किसी भी किसान को अभी तक एनओसी नहीं दी गई है, उन्होंने मीडिया के माध्यम से अपील की कि निवेदन है कि 56 हजार करोड़ के लोन 3 हजार करोड़ में कैसे माफ होंगे, यह बताएं। किस किस बैंक को इन्होंने कितनी राशि दी है। यह जनता को बताएं। एक अप्रैल आने वाला है। किसान को खाद-बीज नही मिलेंगे, क्योंकि कर्ज माफ ही नहीं हुआ है।


कांग्रेस कर्ज माफी वाले किसानों को प्रमाण पत्र के साथ मिश्रा से 2 लाख देने की मांग करेगी: सलूजा

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने कहा कि किसानों की कर्ज माफी पर भाजपा के पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा लगातार बयान दे रहे थे कि किसानों की कर्ज माफी छलावा है। एक भी किसान का कर्ज माफ नहीं हुआ है। एक भी किसान का यदि दो लाख तक का कर्ज माफ हुआ हो तो बताएं, वे अपने पास से उस किसान को दो लाख रुपए नगद देंगे। जिस पर कांग्रेस ने कल उनके घर जाकर उनके हाथों में उन किसानों की सूची सौंपी, जिनका दो लाख तक का कर्ज माफ हुआ है और उनसे आग्रह किया कि इस प्रमाणित सूची के बाद वे प्रत्येक किसान को दो लाख रूपए नगद प्रदान करें। लेकिन बार-बार आग्रह के बावजूद नरोत्तम मिश्रा दो लाख नगद देने को राजी नहीं हुए और गोल-गोल बातें करने में लग गए। लेकिन बड़ा ही शर्मनाक है कि किसानों की प्रमाणित सूची सौंपने के बाद सदमे में गए पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा आज 24 घंटे बाद सदमे से लौटकर वापस वही झूठ दोहराते नजर आए।
सलूजा ने कहा कि कल जब कांग्रेस ने उन्हें सूची सौंपी थी तब उनसे आग्रह किया था सूची में मौजूद किसानों के मोबाइल नंबर पर वह अपने मोबाइल से हमारे और मीडिया के सामने फोन लगाकर उनसे यह पूछें कि उनका दो लाख तक का कर्ज माफ हुआ है या नहीं। लेकिन बार-बार आग्रह के बावजूद नरोत्तम मिश्रा ने एक भी किसान को फोन नहीं लगाया। बड़ा ही आश्चर्यजनक है कि आज 24 घंटे बाद अपना झूठ सामने आने के बाद वह सदमे से जागे। अब वे दो लाख नगद देने की बात छोड़ कभी सूची को फर्जी बता रहे हैं और अब एनपीए की, एनओसी की और नो-ड्यूज की बात करने में लग गये हंै। सलूजा ने कहा कि यह सच है कि भाजपा में यह परंपरा है जोर से बोलो, बार-बार बोलो, जमकर बोलो, खूब झूठ बोलो। इसी तर्ज पर नरोत्तम मिश्रा किसानों की कर्ज माफी पर निरंतर झूठ परोस रहे हैं। लेकिन अब उन्हें सच्चाई स्वीकार कर कांग्रेस द्वारा सौंपी सूची के बाद प्रत्येक किसान को बगैर कोई बहाना बनाए 2 लाख नगद देना चाहिए और इस झूठ पर विराम लगाना चाहिए। अन्यथा कांग्रेस अगले चरण में दो लाख तक की कर्ज माफी वाले किसानों को प्रमाण पत्र के साथ नरोत्तम मिश्रा के घर ले जाकर उनसे 2-2 लाख देने की मांग करेगी।