भोपाल लोकसभा सीट पर मैच फिक्सिंग नहीं होगी


मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल और संसदीय क्षेत्र भोपाल दोनों भाजपा के लिए इस बार प्रतिष्ठा का सवाल है, क्योंकि पिछले तीन दशकों से इस लोकसभा सीट पर भाजपा का ही कब्जा है। भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं ने भी इस बात का डर है कि दिग्विजय सिंह के सामने मजबूत उम्मीदवार न उतारा जाए, इसकी कोशिश की जा रही है। पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के सूत्रों का कहना है कि दिग्विजय सिंह के सामने या तो वे स्वयं लड़ते या फिर शिवराज सिंह चौहान या नरेंद्र तोमर लड़ें तो सीट परंपरागत हिंदुत्व के आधार पर भाजपा को ही मिलेगी, लेकिन भाजपा के एक पूर्व विधायक ने यह संशय जाहिर किया है कि यदि मैच फिक्सिंग हुई तो सीट गई भाजपा के हाथ से। इस बात को लेकर जब पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर से बात हुई तो उन्होंने स्पष्ट कहा कि मैंने अपना दावा वापस ले लिया है, अब तो बारी है शिवराज लड़ें या नरेंद्र तोमर। अब शायद यह बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक पहुंच गई है, इसलिए फिक्सिंग की गुंजाइश नहीं है…। -खबरची