संकल्प पत्र को लेकर कमलनाथ-शिवराज आमने-सामने

झूठे सपने दिखाकर गुमराह करने का प्रयास है संकल्प पत्र: कमलनाथ
भोपाल।
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा के आज जारी 48 पेज के 75 संकल्प वाले संकल्प पत्र को जुमला पत्र बताते हुए कहा कि इसमें एक बार फिर भाजपा के 2014 के घोषणा पत्र के पुराने वादों को शामिल कर झूठे सपने दिखाने व जनता को गुमराह करने का प्रयास है। चाहे राम मंदिर की बात हो, धारा 370 हटाने की बात हो, आर्टिकल 35ए की बात हो, यह सब बातें भाजपा ने 2014 में भी की थीं। लेकिन पूरे 5 वर्ष इन वादों को भाजपा भूल गई। अब 2019 में एक बार फिर इन वादों को दोहरा कर भाजपा जनता को झूठे सपने दिखाने का काम कर रही है। जनता इनकी हकीकत जानती है। 2014 में किसानों की आय बढ़ाने के लिए उनकी उपज पर 50 प्रतिशत अधिक लागत देने का वादा करने वाले आज 2019 में 5 साल बाद भी किसानों की आय दोगुनी करने के लिए 2022 तक का समय मांग रहे हैं। नोटबंदी से आतंकवाद-नक्सलवाद खत्म करने का दावा करने वाले 2019 के घोषणा पत्र में भी इन्हीं बातों को दोहरा रहे हैं। सत्ता में आने के पूर्व 2014 में नए भारत के निर्माण की बड़ी-बड़ी बातें करते थे। अब नए भारत के निर्माण के लिए भी 2022 तक का समय मांग रहे हैं। नाथ ने कहा कि आज जारी भाजपा के संकल्प पत्र में उम्मीद थी कि किसानों को कर्ज के दलदल से निकालने के लिए कोई ठोस कार्ययोजना या उन्हें कर्ज मुक्त बनाने पर बात करेंगे, लेकिन किसानों को कर्ज से उबारने के लिए कोई ठोस कार्य योजना का अभाव इस घोषणा पत्र में दिखा, जबकि कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र में किसानों के लिए अलग से बजट बनाने की बात कही है। किसानों को कर्ज के दलदल से मुक्त करने की बात कही है। एक तरफ हमारे घोषणा पत्र में गरीबों के लिए हमने न्यूनतम आमदनी योजना लागू करने की बात कही है।
वहीं भाजपा के आज के जुमला पत्र में गरीबों के लिए कोई बात नहीं की गई है। हमने हमारे घोषणा पत्र में युवाओं के रोजगार की दृष्टि से, उन्हें नौकरी प्रदान करने को नंबर वन प्राथमिकता में रखा है। लेकिन भाजपा के आज के घोषणा पत्र में रोजगार को लेकर कोई ठोस बात नहीं है। हमने अपने घोषणा पत्र में महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए उन्हें 33 प्रतिशत आरक्षण देने की बात कही है, जबकि भाजपा के घोषणा पत्र में महिलाओं के उत्थान को लेकर कोई ठोस बात नहीं है। जीएसटी-नोटबंदी से तबाह हो चुके व्यापार-व्यवसाय को संकट से उबारने के लिए कोई ठोस कार्ययोजना इस संकल्प पत्र में नहीं दिखी। यह पूरी तरीके से जुमला पत्र है। इसके माध्यम से जनता को झूठे सपने दिखाकर गुमराह करने का प्रयास मात्र है।

भारत को विश्व गुरु बनाने का रोड मैप है संकल्प पत्र: शिवराज

भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए अपना चुनावी घोषणा पत्र जारी कर दिया है। जिसे भाजपा ने संकल्प पत्र का नाम दिया है। संकल्प पत्र को लेकर मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान कहा कि भाजपा का घोषणा पत्र भारत को विश्व गुरु बनाने का रोडमैप है। दिल्ली स्थित बीजेपी कार्यालय में इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में जारी किया गया है। शिवराज सिंह चौहान ने जबलपुर में मीडिया से चर्चा के दौरान संकल्प पत्र पर प्रतिक्रिया देते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि यह एक समृद्ध, सम्पन्न और शक्तिशाली भारत के निर्माण का संकल्प पत्र है। भारत आने वाले पांच साल में विश्वगुरु बने और दुनिया की सबसे बड़ी ताकत बनकर उभरे, यह उसी का रोड मैप है।
मध्यप्रदेश में लॉ एंड ऑर्डर का मतलब है पैसे ला और ऑर्डर ले जा: मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने कहा, कांग्रेस का नारा था वक्त है बदलाव का, लेकिन तीन महीने में मध्य प्रदेश में कानून व्यवस्था की हालत खराब हो गई है। अब लॉ एंड ऑर्डर का मतलब है पैसे ला और ऑर्डर ले जा। मध्य प्रदेश की जनता कह रही है कि जनादेश देने में गलती हो गई। एक राष्ट्रीय चैनल में शिवराज ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि मध्य प्रदेश में भ्रष्टाचार के नए रिकॉर्ड बन रहे हैं, प्रदेश की जनता कह रही है कि जनादेश देने में गलती हो गई। लोकसभा चुनाव में जनता बीजेपी को चुनेगी। झूठे वादे करना कांग्रेस की फितरत में है, छत्तीसगढ़ में लोगों ने झूठे वादे में फंसकर वोट दिया। जैसे पूरब से सूरज का उगना तय है, इसी तरह मोदी जी का दोबारा प्रधानमंत्री बनना तय है। चौहान ने दावा किया कि 23 मई को नतीजे आएंगे तो बीजेपी की 300 सीटें आएंगी, एनडीए को 400 सीटें मिलेंगी। बीजेपी में सिर्फ नरेंद्र मोदी ही पीएम मैटेरियल हैं। उन्होंने कहा कि मैं बीजेपी का ऐसा कार्यकर्ता हूं, जिसकी सीमा सिर्फ मध्य प्रदेश तक है। विकास के मामले में बीजेपी का कांग्रेस से कोई मुकाबला नहीं। शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश में फिलहाल ढाई मुख्यमंत्री हैं, हम कांग्रेस की सरकार नहीं गिराएंगे, लेकिन इस बात की गारंटी नहीं है कि वो कब तक चलाएंगे। उन्होंने कहा, जम्मू-कश्मीर से धारा 370 खत्म होनी ही चाहिए, बीजेपी इसके लिए वचनबद्ध है। राहुल गांधी चुनौती नहीं हैं, ज्यादातर राज्यों में कांग्रेस मुकाबले में है ही नहीं। राफेल पर सवाल पूछना बचकानापन है। चुनाव आता है तो कांग्रेस गरीबी-गरीबी खेलती है, 60 साल सरकार में रहने बावजूद गरीबी हटाने की बात कर रहे हैं। राहुल गांधी से कौन चर्चा करेगा, देश खुद उन्हें चर्चा के लायक नहीं समझता। किसानों की कर्जमाफी के मुद्दे पर शिवराज ने कहा, किसानों की कर्जमाफी पर राहुल गांधी झूठ बोलते हैं, 110 दिन बाद भी एमपी के किसानों का कर्ज माफ नहीं किया। राहुल गांधी जैसा झूठ बोलने वाला कांग्रेस अध्यक्ष कोई नहीं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड पूरी तरह जनता के सामने है, मोदी सरकार ने किसानों के हित के लिए कदम उठाए। भोपाल लोकसभा सीट से दिग्विजय सिंह के चुनाव लडऩे को लेकर शिवराज ने कहा, दिग्विजय के साथ जनता है नहीं, जनाधार बचा नहीं। इसलिए चर्चा में बने रहने के लिए वो ट्वीट करते रहते हैं। दिग्विजय सिंह को बीजेपी का कोई साधारण कार्यकर्ता भोपाल में चुनाव हराएगा।