मोदी जी हमसे जितनी नफरत करोगे, हम उतनी झप्पियां देंगे, गले मिलेंगे: राहुल


तीन लोकसभा सीटों पर विशाल आमसभाएं, प्रत्याशी का भजन गाते हुए बनाया वीडियो
शुजालपुर/अमझेरा/खरगौन, 11 मई।
लोकसभा चुनाव के अंतिम चरणों में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मप्र की सीटों पर फोकस करते हुए एक ही दिन में तीन लोकसभा सीटों पर विशाल सभाएं लीं। राहुल आज दो मुख्यमंत्री, कमलनाथ और भूपेश बघेल को मालवा-निमाड़ की जनता के बीच लेकर पहुंचे। यहां उन्होंने कर्जमाफी के वादे को पूरे करने से लेकर अपनी महत्वाकांक्षी न्याय योजना तक की खूब चर्चा की। इसी बीच उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर भी जोरदार हमले किए। उन्होंने कहा कि मोदी जी हमसे जितनी नफरत करेंगे, हम उन्हें उतनी ही झप्पियां देंगे, उनसे गले मिलेंगे। शाजापुर में उन्होंने देवास-शाजापुर सीट से पार्टी के उम्मीदवार और लोक गायक पद्मश्री प्रहलाद टिपानिया के पक्ष में जनसभा की। राहुल ने कहा कि नरेंद्र मोदी और आरएसएस के दिल में नफरत है। कांग्रेस के दिल में नफरत नहीं, मोदी जी प्यार करना सीखिए। मैं पीएम मोदी का भाषण सुनता हूं, वह सिर्फ नफरत की बातें करते हैं। मोदी द्वारा गांधी परिवार पर लगातार दिए जा रहे बयान पर राहुल ने कहा कि मोदी जी मेरे दादा, परदादा, दादी और पिता को गाली दे रहे हैं। मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि कांग्रेस के दिल में नफरत नहीं है। नफरत तो भाजपा और नरेंद्र मोदी जी के दिल में है। उनकी नफरत को नफरत से नहीं काटा जा सकता।
राहुल गांधी ने कहा कि जीएसटी पर उन्होंने मोदी सरकार को समझाया था कि इसे लागू करने से पहले लोगों से चर्चा कीजिए, पायलेट प्रोजेक्ट करिए। आप बिना प्लॉनिंग के जीएसटी लागू मत कीजिए। बहुत दिक्कत होगी, रोजगार-धंधे चौपट हो जाएंगे। इस पर उन्होंने कहा- फैसला ले लिया गया है। रात 12 बजे जीएसटी लागू हो जाएगा। इसी प्रकार उन्होंने नोटबंदी पर किसी से बात नहीं की। विपक्ष की नहीं सुनी, देश की जनता की नहीं सुनी। उन्होंने केवल अपने दोस्त नीरव मोदी, मेहुल चौकसी और अनिल अंबानी की सुनी। अपनी न्याय योजना का जिक्र करते हुए राहुल ने कहा कि इसका आइडिया मुझे नरेंद्र मोदी जी ने दिया है। वे 15 लाख रुपए हर अकाउंट में डालने का वादा तो पूरा नहीं कर पाए, लेकिन मैं पांच करोड़ परिवार के खाते में हर साल 72 हजार रुपए जरूर डलवाऊंगा। ये रुपए महिलाओं के खाते में आएंगे। न्याय योजना के लिए मेरी टीम ने छह महीने रिसर्च किया है। इसके बाद हमने इस योजना पर बात की। मैंने अपनी टीम से कहा कि हम गरीबों को हर साल कितना पैसा दे सकते हैं, आप इस पर काम करें। हां, लेकिन इससे किसी को नुकसान नहीं हो। ना तो अर्थव्यवस्था को और ना गरीब, छोटे दुकानदारों को। वे रिसर्च के बाद मेरे पास आए और कागज पर 72 हजार रुपए लिख दिए हैं। मैंने कहा कि 72 हजार रुपए हर साल पांच करोड़ परिवारों को देना संभव है। इस पर उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान की जनता जो रोज खरीदती है, वही हमारे देश की आर्थिक शक्ति है। जीएसटी और नोटबंदी कर नरेंद्र मोदी ने उस अर्थिक शक्ति को खत्म कर दिया। न्याय योजना के जरिए जब गरीबों के जेब तक रुपए पहुंचेंगे तो वे खरीदी करेंगे और इस प्रकार से रुपया बाजार तक पहुंचेगा। बाजार में रुपए पहुंचने पर सामान की मांग बढ़ेगी और नोटबंदी के बाद बंद हुए उद्योग धंधे फिर से शुरू हो जाएंगे। ऐसा कर हमारी अर्थव्यवस्था फिर से पटरी पर आ जाएगी। कर्जमाफी पर बात करते हुए राहुल ने शिवराज सिंह पर तंज कसा। उन्होंने कहा-विधानसभा चुनाव के दौरान 10 दिन में कर्जमाफी का कहा था, लेकिन सत्ता में आते ही दो दिन में कर्ज माफ कर दिया। शिवराज जी और मोदी जी ने कहा- कांग्रेस कर्जमाफी पर झूठ बोल रही है। मैं शिवराज जी से कहना चाहता हूं कि हमने मप्र के किसानों का ही नहीं, आपके परिवार का भी कर्जा माफ किया है।
राहुल गांधी ने कहा कि यह चुनाव कांग्रेस-भाजपा नहीं, दो विचारधाआरों की लड़ाई है। पांच साल पहले नरेंद्र मोदी जी अच्छे दिन का सपना दिखाकर सत्ता में आए थे, लेकिन इन चुनाव में वे अच्छे दिन की बात नहीं कर रहे हैं। उन्होंने दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने, किसानों को फसल का दोगुना दाम देने का वादा किया था। इसके अलावा हर भारतीय के खाते में 15 लाख रुपए डालने का वादा भी किया था, क्या वो वादा पूरा हुआ। राहुल गांधी ने कहा कि शुजालपुर में लहसुन की खेती बहुत ज्यादा मात्रा में होती है, लेकिन इसका पेस्ट कहीं और बनता है। प्रोसेसिंग कहीं और होती है। इसलिए कमलनाथ जी ऐसा नहीं हो सकता कि यहीं पर एक यूनिट बन जाए? इस पर कमलनाथ ने कहा कि प्रोसेसिंग यूनिट शुजालपुर में लगाई जाएगी। राहुल गांधी ने आम बजट के साथ किसानों के लिए अलग से बजट बनाने की बात भी कही। साथ ही कांग्रेस की सरकार आने पर किसी भी किसान को कर्ज के जुर्म में जेल नहीं जाने का वादा भी किया। उन्होंने सरकार बनने पर 10 लाख युवाओं को पंचायत और 19 लाख युवाओं को सरकारी जॉब देने का वादा किया।
अब जनता पूछ रही मोदी जी आप किस काम के: कमलनाथ:मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मोदी जी गंगा साफ करने निकले थे। गंगा तो साफ नहीं कर पाए लेकिन बैंकों को साफ कर दिया। जनता ने अब इनकी कलाकारी और गुमराह करने और ध्यान मोडऩे की राजनीति को पहचान लिया है। आज किसान और नौजवान बिना काम के हैं। जनता पूछ रही है कि मोदीजी आप किस काम के हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मतदाताओं से कहा कि तस्वीर आपके सामने है। सच्चाई को पहचानिए, सच्चाई का साथ दीजिए। आज मोदी जी कोई जवाब, कोई हिसाब नहीं दे पा रहे। आज बात करते हैं कि मेरे नीचे देश सुरक्षित है। क्या 5 साल पहले देश सुरक्षित नहीं था। मोदी जी ने जब पैंट पजामा पहनना नहीं सीखा तब जवाहर लाल नेहरू, इंदिरा जी ने देश की फौज बनाई थी, एयरफोर्स और सैनिक स्कूल बनाए थे। मोदी जी यह सब भूल गए। मोदी अपनी पार्टी में एक भी स्वतंत्रता संग्राम सेनानी का नाम बताएं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को राष्ट्रवाद का पाठ न पढ़ाएं।
मेरे बयान आचार संहिता का उल्लंघन नहीं शिकायतों पर निष्पक्ष कार्रवाई हो: राहुल: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आचार संहिता उल्लंघन के मामले में चुनाव आयोग में जवाब दाखिल किया। इसमें उन्होंने शहडोल में दिए अपने बयान पर सफाई और आयोग को निष्पक्ष कार्रवाई करने की नसीहत भी दी। राहुल ने कहा कि मेरा बयान आदिवासियों के खिलाफ नहीं बल्कि उनके लिए बनाई मोदी सरकार की नीतियों पर था। लिहाजा भाजपा की शिकायत को रद्द कर देना चाहिए।
राहुल ने कहा कि भाषण में उन्होंने भारतीय वन कानून में हुए संशोधन को आसान भाषा में समझाने का प्रयास किया था। चुनावी रैली के भाषण की लय में यह शब्द बोल दिए थे। इसके पीछे जनता को गुमराह करने या झूठ फैलाने की कोई मंशा नहीं थी। राजनीतिक दलों के नेताओं के खिलाफ आने वाली शिकायतों पर निष्पक्ष और संतुलित कार्रवाई की जानी चाहिए।
शिकायतें प्रचार अभियान में बाधा डालने की कोशिश: राहुल ने कहा, मैं कांग्रेस का स्टार प्रचारक हूं, इसलिए मेरे खिलाफ आई भाजपा की शिकायतें सिर्फ चुनाव अभियान में बाधा डालने से ज्यादा कुछ नहीं हैं। भाषणों में मोदी सरकार के कामकाज की आलोचना करना आचार संहिता का उल्लंघन नहीं है। शहडोल में भाजपा की आदिवासी विरोधी नीतियों को लेकर दिया गया था। इसलिए शिकायत को रद्द किया जाए।
राहुल गांधी रैलियों में मोदी-शाह पर हमला बोल रहे:कांग्रेस अध्यक्ष चुनावी सभाओं में लगातार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह समेत भाजपा नेताओं के खिलाफ हमला बोल रहे हैं। भाजपा की ओर से उनके खिलाफ कई शिकायतें चुनाव आयोग से की जा चुकी हैं। एक मई को शहडोल के दो भाजपा नेताओं ने कांग्रेस अध्यक्ष के भाषण को लेकर आयोग के सामने ऐतराज जताया था।
राहुल ने कहा था- आदिवासियों को गोली मारी जा सकती है: राहुल गांधी ने 23 अप्रैल को मध्यप्रदेश के शहडोल में कहा था कि मोदी सरकार एक ऐसा कानून लेकर आई है, जिसके तहत आदिवासियों को गोली मारी जा सकती है। वे आपकी जमीन और जंगल पर कब्जा कर सकते हैं। इसके बाद चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस जारी कर जवाब मांगा था।टिपानियां ने गाए भजन, राहुल ने मोबाइल से बनाया वीडियो
शुजालपुर में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की सभा सबसे अनोखी रही। संभवत: यह राहुल की अब तक की पहली ऐसी सभा होगी, जहां सभा के मंच से उम्मीदवार ने भजन गाए हों और राहुल ने अपने मोबाइल से उसकी रिकार्डिंग की हो। देवास सीट से उम्मीदवार प्रहलाद टिपानिया मूलत: मालवी लोक गायक हैं। उन्होंने मंच से खूबसूरत भजन गाया। राहुल ने पूरा भजन रिकार्ड किया और फिर इसे अपने अधिकारिक ट्वीटर हैंडल से शेयर भी किया।