प. बंगाल में राष्ट्रपति शासन की संभावना!


राज्य के प्रभारी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने दिए संकेत
नई दिल्ली, 10 जून।
भारतीय जनता पार्टी ने पश्चिम बंगाल में पांच पार्टी कार्यकर्ताओं की हत्या के बाद आज मांग की कि केन्द्र सरकार राज्य के हालात के अध्ययन के लिए केन्द्रीय दल भेजे तथा राष्ट्रपति शासन लगाने के बारे में विचार करे। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केसरीनाथ त्रिपाठी के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात के बाद भाजपा में इस राज्य के प्रभारी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ये संकेत दिए।
उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि वैचारिक रूप से हम इस बात के पक्षधर हैं कि चुनी हुई सरकार को अपना कार्यकाल पूरा करने देना चाहिए। राज्य के लोगों के जानमाल की सुरक्षा राज्य सरकार की जिम्मेदारी होती है पर जिस तरह से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कसम खाकर विरोधियों को मिटा देने की बात कह रहीं हैं, चाहे अराजकता ही फैल जाये। तब फिर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने के बारे में सोचा जाना चाहिए।
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार और भारतीय जनता पार्टी पर राज्य में हिंसा फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी सरकार को गिराने की साजिश की जा रही है।
लोकसभा चुनाव के नतीजे आए एक पखवाड़े से अधिक का समय बीत चुका है, किंतु राज्य में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच संघर्ष लगातार जारी हैं और कई की मौत भी हो चुकी है।
राज्य सचिवालय में संवाददाताओं से सोमवार को बातचीत करते हुए सुश्री बनर्जी ने कहा देश में भाजपा का विरोध करने वाली वह एकमात्र नेता हैं और उनकी आवाज दबाने की कोशिश की जा रही है। सुश्री बनर्जी ने भाजपा पर आरोप लगाया राज्य में विभिन्न सोशल मीडिया के माध्यमों से भाजपा फर्जी खबरें फैलाने पर करोड़ों रुपए खर्च कर रही है। केंद्र सरकार और भाजपा कार्यकर्ता पश्चिम बंगाल में हिंसा फैलाने में जुटे हुए हैं। भाजपा अपने कार्यकर्ताओं की हत्या के विरोध में आज पश्चिम बंगाल में ‘काला दिवस मना रही है।
राज्यपाल ने 48 पेज लंबी रिपोर्ट सौंपी
पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद राजनीतिक हिंसा पर जारी सियासी तूफान सोमवार को दिल्ली तक पहुंच गया। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने सोमवार सुबह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की। टीवी रिपोर्ट्स के मुताबिक त्रिपाठी ने गृह मंत्री को राज्य में राजनीतिक हिंसा और मौजूदा हालात पर 48 पेज लंबी रिपोर्ट सौंपी। हालांकि, गृह मंत्री से मुलाकात के बाद त्रिपाठी ने इससे महज शिष्टाचार भेंट करार दिया। गवर्नर त्रिपाठी ने कहा कि उन्होंने बस राज्य की स्थिति के बारे में पीएम और गृह मंत्री को अवगत कराया। इस बीच राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीजेपी पर बंगाल में हिंसा फैलाने और उनकी सरकार को गिराने की साजिश रचने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वह किसी को भी अपनी सरकार को गिराने नहीं देंगी।
इससे पहले पश्चिम बंगाल में कानून और व्यवस्था की बिगड़ती स्थिति को लेकर एडवाइजरी जारी करने के एक दिन बाद गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को आंतरिक सुरक्षा के मसले पर उच्चस्तरीय बैठक की। बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी मौजूद थे। माना जा रहा है कि बैठक में बंगाल में राजनीतिक हिंसा पर खास चर्चा हुई। बैठक खत्म होने के बाद पश्चिम बंगाल के गवर्नर केशरीनाथ त्रिपाठी ने गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की।