राजधानी का कलेक्टर तय नहीं कर पा रही, यह कैसी सरकार है: शिवराज

कांग्रेस राज में अंधेर नगरी बन गया है मध्यप्रदेश

भोपाल, 11 जून। कमलनाथ सरकार तबादलों में व्यस्त है। कांग्रेस कार्यालय में अफसरों की बोली लग रही है। अलग-अलग गुटों के नेताओं में अपनी पसंद के अधिकारी को कलेक्टर बनाने की होड़ लगी है। इस सरकार ने राजधानी भोपाल और पूरे प्रदेश को अंधेरनगरी बना दिया है। सरकार राजधानी भोपाल के लिए एक कलेक्टर तक तय नहीं कर पा रही है और मुख्यमंत्री कमलनाथ आंख बंद करके बैठे हैं। प्रदेश में हर तरफ अराजकता का माहौल बन गया है और जमीन पर कहीं भी सरकार नजर नहीं आ रही है। यह बात पूर्व मुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को अपने निवास पर मीडिया से चर्चा करते हुए कही।
शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में अंधेरनगरी चौपट राजा वाला हाल है। पिछले 10 दिनों से भोपाल में कलेक्टर ही नहीं है। हर नेता अपना आदमी बैठना चाहता है। इन लोगों ने भोपाल और प्रदेश को अंधेरनगरी बना दिया है। मुख्यमंत्री फैसला ही नहीं कर पा रहे हैं, सरकार चलाना मुश्किल हो गया है। चौहान ने कहा सरकार जलापूर्ति भी नहीं कर पा रही है, प्रदेश बिजली, पानी के लिए तरस रहा है और इस संबंध में सरकार ने एक बैठक तक नहीं की। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने प्रदेश को 15 वर्षों में शांति का टापू बनाया। ग्वालियर-चम्बल क्षेत्र को डकैतों से मुक्त किया। लेकिन कांग्रेस की सरकार आते ही ग्वालियर में फिर डाकू समस्या पैर पसारने लगी है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि रेत का अवैध उत्खनन धड़ल्ले से किया जा रहा है, कांग्रेस के नेताओं ने खदानें बांट रखी हैं।
प्रदेश भर में भाजपा आंदोलन करेगी: शिवराज सिंह चौहान ने कहा प्रदेश में बेटियों के खिलाफ हो रहे अपराध, किसानों की समस्याओं, गरीबी, अवैध खनन और आदिवासियों के मुद्दों पर भाजपा प्रदेश भर में आंदोलन शुरू करने जा रही है। उन्होंने कहा कि मैंने बलात्कारियों को फांसी की सजा दिलाने के लिए जनता के साथ सीजेआई को पत्र लिखा है। आंदोलन आज से शुरू हुआ है और सीजेआई को ऐसी कई चि_ियां भेजी जाएंगी।
भाजपा पर आरोप लगाने के बजाय काम करें: चौहान ने कहा कि किसान सम्मान निधि का पैसा प्रदेश सरकार किसानों के खाते में डलवाने की व्यवस्था जल्द करे। भाजपा की सरकार में बिजली की कोई समस्या नहीं थी। मुख्यमंत्री कमलनाथ कुछ भी होता है, तो भाजपा पर आरोप लगाते हैं, ऐसा नहीं चलेगा। उन्होंने कहा कि सरकार का हाल ऐसा ही रहा, तो हम हाथ पर हाथ धरकर बैठेंगे नहीं, सड़कों पर उतरेंगे। चौहान ने कहा कि सरकार की स्थिति नाच न जाने आंगन टेढ़ा जैसी हो गई है। शासन चला नहीं पा रहे और आरोप भाजपा पर लगाते हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ को इंगित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री हो तो जिम्मेदारी उठाओ।
बलात्कारियों को फांसी के लिए शिवराज सिंह ने लिखी चिठ्ठी: प्रदेश में लगातार हो रही दुष्कर्म की घटनाओं के विरोध में मंगलवार को राजधानी की सामाजिक संस्थाओं ने भवानी चौक सोमवारा में बलात्कारियों को तत्काल फांसी देने हेतु पोस्टकार्ड अभियान शुरू किया। अभियान में शामिल होकर पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बच्चियों से रेप की बढ़ती घटनाओं को मद्देनजर रखते हुए सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को पोस्टकार्ड लिखा है। शिवराज सिंह चौहान ने सीजेआई को पोस्टकार्ड लिखकर अनुरोध किया है कि रेप केस की सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट का गठन कर जल्द सुनवाई की जाए।
मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पोस्टकार्ड अभियान में पहुंचे। यहां उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश के नाम पोस्टकार्ड लिखा। उन्होंने लिखा है कि देश में बलात्कार, दुष्कर्म और हत्या के लिए केन्द्र सरकार ने फांसी जैसी सजा का कड़ा कानून बनाया है। लेकिन अदालतों में लंबित प्रकरणों के कारण उनकी सजा में देरी हो रही है। शिवराज सिंह चौहान ने पोस्टकार्ड में अनुरोध किया है कि मध्यप्रदेश में 26 आरोपियों को फांसी की सजा हो चुकी है, इसलिए फास्ट ट्रेक कोर्ट का गठन कर जल्द से जल्द उन्हें फांसी पर लटकाया जाए, जिससे अपराधियों में कानून का खौफ पैदा हो और ऐसे मामलों की पुनरावृत्ति रोकी जा सके।
बड़ी संख्या में नागरिकों ने भी लिखे सीजेआई को पोस्टकार्ड: अभियान में बड़ी संख्या में सामाजिक संस्थाओं, स्वयंसेवी संस्थाओं और प्रबुद्धजनों एवं आमजनों ने शामिल होकर सीजेआई के नाम पोस्टकार्ड लिखकर अनुरोध किया है कि रेप केस की सुनवाई के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट का गठन कर जल्द सुनवाई की जाए, ताकि दुष्कृत्य करने वाले ऐसे दोषियों को तत्काल फांसी दी जा सके। इस अवसर पर पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता, महापौर आलोक शर्मा, जिला अध्यक्ष विकास विरानी, अंशुल तिवारी, नितिन दुबे सहित विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के पदाधिकारी, प्रबुद्धजन उपस्थित थे।
समाज को अपनी जवाबदारी समझनी होगी: शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मासूस बेटी के साथ हुई इस घटना ने हमें झकझोर दिया है। उज्जैन, नौगांव, भोपाल, जबलपुर और इंदौर में हुई ऐसी घटनाओं से समाज का विकृत चेहरा भी हमारे सामने आता है। भोपाल की घटना में प्रशासन की लापरवाही हमें स्पष्ट रूप से देखने को मिलती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में लगातार हो रही ऐसी घटनाओं की जवाबदेही से सरकार बच नहीं सकती। लेकिन सरकार के साथ ही समाज को भी जवाबदारी समझने की आवश्यकता है। ऐसी घटनाओं में लापरवाही करने वाले अधिकारियों पर भी आपराधिक कार्यवाही होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाओं के पीछे नशा मुख्य कारण होता है। जिसके लिए भी अभियान चलाने की जरूरत हैं। आजकल स्कूल, कालेज के आसपास और बाजार में नशे के कारोबारी मौत परोस रहे हैं। ऐसे लोगों पर भी कार्रवाही होनी चाहिए।
दरिंदों को कठोर सजा देनी होगी: उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाएं समाज में फैल रही कुरीतियों को दर्शाती हैं। हमने सरकार में रहते हुए ऐसी घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए कठोर कानून बनाने की पहल की। जिसे आगे बढ़ाते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश भर में इसे लागू किया। ऐसी घटनाओं के मामले निचली अदालत से लेकर हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में सजा के लिए लंबित पड़े रहते हंै और पीडि़ता को न्याय के लिए इंतजार करना पड़ता है। उन्होंने कहा कि इसके लिए आवश्यक है कि ऐसे मामलों में फास्ट ट्रेक का गठन हो और 5 से 7 दिनों के भीतर ही दरिंदों को फांसी की सजा मिले।
समाज के हर वर्ग को जागरूक होना होगा: सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि ऐसी घटनाएं हमारे समाज पर बदनुमा दाग होती हैं। हमें ऐसी घटनाओं को लेकर बच्चों को सचेत करने की आवश्यकता है। जागरूकता से ही ऐसी घटनाओं पर अंकुश लग सकता है। उन्होंने कहा कि हमें राजनीतिक द्वेष भूलकर बच्चों के अच्छे भविष्य और उनके निर्माण के बारे में सोचना होगा। उन्होंने कहा कि भोपाल की उस बेटी और ऐसी सभी बच्चियां जिनके साथ ऐसी घटनाएं हुई हंै, उन्हें मैं श्रद्धासुमन अर्पित कर प्रभु से कामना करती हूं कि उनके परिजनों को दु:ख सहन करने की शक्ति प्रदान करें।
मोमबत्ती जलाकर पीडि़ता के लिए आत्मशांति की कामना की: श्रद्धांजलि सभा में पूर्व मंत्री विश्वास सारंग, रामपाल सिंह, प्रदेश उपाध्यक्ष रामेश्वर शर्मा, प्रदेश प्रवक्ता आलोक संजर, जिला अध्यक्ष विकास वीरानी, नगर निगम अध्यक्ष सुरजीत सिंह चौहान, सुरेंद्रनाथ सिंह प्रमुख रूप से उपस्थित थे। बड़ी संख्या में मौजूद पार्टी के वरिष्ठ नेता कार्यकर्ता, सामाजिक संगठनों के प्रबुद्धजनों ने मोमबत्ती जलाकर पीडि़ता की आत्मशांति की कामना की।

भोपाल से हो जनजागरण अभियान
की शुरूआत

निंदनीय घटनाओं को रोकने के लिए समाज को आगे आने की जरूरत भोपाल। नाबालिगों के साथ होने वाली ऐसी घटनाओं से मानवता शर्मसार हुई है। भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो, इसके लिए समाज को आगे आने की आवश्यकता है। समाज में जनजागरण आंदोलन चलाने की आवश्यकता है। ऐसी आंदोलन की शुरूआत भोपाल से होनी चाहिए। सभी संगठन मिलकर आगे बढ़ें ओर आंदोलन को सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचाएं। यह बात मंगलवार को पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रोशनपुरा चौराहा पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जिन स्थानों पर ऐसी घटनाएं हुई हैं, वहां जनजागरण अभियान चलाया जाएगा। भाजपा जिला भोपाल द्वारा मंगलवार को नाबालिग के साथ दुष्कर्म और हत्या की घटना को लेकर पीडि़ता की आत्मशांति के लिए श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। श्रद्धांजलि सभा को शिवराज सिंह चौहान, साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने संबोधित किया। सभा के पश्चात शिवराज सिंह चौहान ने फास्ट ट्रेक के गठन को लेकर सीजेआई को भेजे जाने वाले पोस्टकार्ड कार्यकर्ताओं को वितरित कर अभियान शुरू किया।