मोहंती और व्ही.के. सिंह के रहते मुख्य सचिव पुलिस महानिदेशक बनने का सपना अधूरा


मोहंती और व्ही.के.सिंह के रिटायर होते-होते 1 दर्जन नौकरशाह और 14 भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी हो जाएंगे रिटायर

विशेष रिपोर्ट
विजय कुमार दास
मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव सुधिरंजन मोहंती (1982) तथा पुलिस महानिदेशक व्ही.के. सिंह(1984) के सेवाकाल पूरे होने तक मुख्य सचिव तथा पुलिस महानिदेशक बनने का ख्वाब देखने वाले 12 आई.ए.एस.अधिकारी और 14 आई.पी.एस. अधिकारी रिटायर हो जाएंगे। और उपरोक्त दोनों हस्तियों ने यदि कमाल कर दिया तो मुख्यमंत्री कमलनाथ इन्हें 6 महिने की सेवा वृद्धि प्रदान करते हुए कुछ और आई.पी.एस. तथा आई.ए.एस. अधिकारियों के अरमानों में पानी फेर सकते है।
सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुख्य सचिव सुधिरंजन मोहंती से 5 मुद्दों पर परिणाम मांगे हैं। जिसमें पहला मुद्दा है कांग्रेस का वचनपत्र जिसके हर बिंदुओं पर मुख्यसचिव को अमल करना हैं। वचन पत्र में गुड गवर्नेंस तथा डिलेवरी सिस्टम को दुरूस्थ करने के साथ-साथ एक बड़ा वचन भी कांग्रेस ने जनता के सामने रखा है वह यह है कि भाजपा सरकार में जितने भी बड़े घोटाले हुए है उन घोटालों की तह पर जाकर आरोप पत्र तैयार किये जाए और जरूरी हुआ तो दोषी कितना भी बड़ा अधिकारी हो या नेता हो उसे जेल भेजा जायें। मुख्य सचिव ने जिस रफ्तार से वचन पत्र पर काम शुरू किया है उससे ऐसा प्रतीत होता है कि मुख्यमंत्री बेहद संतुष्ट है। ठीक इसी तरह की चुनौतियों का सामना करते हुए पुलिस महानिदेशक व्ही.के.सिंह परिणामों के नजदीक आकर काम कर रहे है। परंतु कुछ घटनाओं ने उन्हें झकझोर दिया है। लेकिन सूत्रों का कहना है मुख्यमंत्री कमलनाथ पुलिस महानिदेशक की कार्यप्रणाली से संतुष्ट बताये जाते है। मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक तीनों की केमेस्ट्री ठीक ठाक रही तो यह निश्चित है कि मुख्य सचिव की दौड़ में शामिल 12 नौकरशाहों को मुख्य सचिव बनने का अवसर नहीं मिलेगा। ठीक इसी तरह 14 भारतीय पुलिस सेवा के वरीष्ठ अधिकारी पुलिस महानिदेशक बनने के पहले रिटायर हो जाएंगे। मोहंती के बाद रिटायर होने वाले पहले नौकरशाह मनोज कुमार गोयल, 1983 को जून में ही इसी साल रिटायर होना है जबकि आलोक श्रीवास्तव जून 2020 में रिटायर हो जायेंगे। श्रीमती रश्मी शुक्ला शर्मा, जयदीप गोविंद, प्रेमचंद मीना, रजनीश वैष्य, प्रभान्शु कमल, अनिल श्रीवास्तव, एस.पी.एस परिहार, सलीना सिंह और शिखा दुबे उन नौकरशाहों में शुमार है जिन्हें मोहंती के रहते मुख्य सचिव बनने का अवसर मिल ही नहीं सकता। जहां तक सवाल है भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारियों का तो पुलिस महानिदेशक व्ही.के.सिंह के सेवाकाल पूरे होने से पहले मैथलीशरण गुप्ता, संजय चौधरी, अशोक दोहरे, राजेन्द्र कुमार, यूके लाल, महान भारत सागर, अलोक पटेरिया, डॉ. शैलेन्द्र श्रीवास्तव, केएन तिवारी, संजय राणा, अनिल कुमार, संजीव कुमार सिंह, डॉ. विजय कुमार ये सभी भारतीय पुलिस सेवा के ऐसे वरीष्ठ अधिकारी है जिन्हें व्ही.के.सिंह के सेवाकाल पूरे होते तक पुलिस महानिदेशक बनने का अवसर नहीं मिलेगा। हालांकि पुलिस महानिदेशक के अलावा पुलिस महकमें में कई और महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां रहती है, जो उपरोक्त वरीष्ठ अधिकारियों में से कुछ लोगों के पास है।