प्रदेश में खाद्य प्र-संस्करण में निवेश की अपार संभावनाएं: मोहन्ती

नीदरलैंड सरकार द्वारा कृषि एवं खाद्य प्र-संस्करण में निवेश विषयक सेमिनार सम्पन्न
भोपाल, 18 जून। मुख्य सचिव सुधि रजंन मोहन्ती ने कहा है कि मध्यप्रदेश ने कृषि उत्पादन में अपनी श्रेष्ठता स्थापित की है। प्रदेश अब औद्योगीकरण की ओर अग्रसर है। नीदरलैंड औद्योगिक प्रणालियों में श्रेष्ठ है। कृषि उत्पादन और औद्योगिक तकनीक का परस्पर समन्वय मध्यप्रदेश और नीदरलैंड दोनों के लिए लाभप्रद होगा। मोहन्ती आज यहां नीदरलैंड सरकार द्वारा प्रदेश में कृषि एवं खाद्य प्र-संस्करण के क्षेत्र में निवेश की संभावनाओं पर आयोजित सेमीनार को सम्बोधित कर रहे थे। होटल जहांनुमा में आयोजित सेमिनार में नीदरलैंड के काउंसल जनरल गुईडो टैलमैन, नाबार्ड के मुख्य महाप्रबंधक एस.के. बंसल, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के अधिकारियों सहित खाद्य प्र-संस्करण, भण्डारण, कोल्ड स्टोरेज, उन्नत बीजों के विकास के क्षेत्र में कार्यरत संस्थाओं के प्रतिनिधि सम्मिलित हुए।
मुख्य सचिव ने कहा कि मुख्यमंत्री कमलनाथ की स्पष्ट मान्यता है कि जो उद्योग प्रदेश के स्थानीय लोगों को अधिक रोजगार देंगे, उन्हें सरकार अधिक छूट प्रदान करेगी। उन्होंने कहा की प्रदेश में सात जलवायु क्षेत्र है। यहां अनाज, दलहन, तिलहन और मसालों सहित फल और उद्यानिकी का उत्पादन प्रचुरता में होता है। इनके भण्डारण और प्र-संस्करण के लिए उपयुक्त तकनीक उपलब्ध कराने से प्रदेश के किसानों और तकनीक उपलब्ध कराने वाली कम्पनियों को समान लाभ होगा। मोहन्ती ने प्रदेश की अधोसंरचनागत क्षमता और संसाधनों के संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि प्रदेश में कोल्ड स्टोरेज, वेयर हाउस, साईलो सहित खाद्य प्र-संस्करण के क्षेत्र में नीदरलैंड की कम्पनियों के लिए अच्छी संभावनाएं हैं।
सेमिनार को नाबार्ड के मुख्य महाप्रबंधक एस.के. बसंल ने भी सम्बोधित किया। कृषि के उन्नत तरीकों, उद्यानिकी, पुष्प उत्पादन, ग्रीन हाउस निर्माण और पशुपालन और खाद्य प्र-संस्करण पर आयोजित विशेष सत्र में विषय विशेषज्ञों ने अपने विचार रखे।