महाराज के सात रत्नों का सहभोज


सूबे में इन दिनों सरकार के कबीना के सात मंत्रियों का सहभोज बड़ी चर्चा का विषय बना हुआ है। हालांकि मंत्री आपस में मिलते-जुलते रहते हैं, खाना-पीना भी होता रहता है। तो इसमें चर्चा का कोई विषय नहीं होना चाहिए, मगर राजनीति सूंघने वालों के लिए यह भोज इसलिए भी खबर है कि साथ बैठने वाले सभी मंत्री एक ही गुट विशेष के थे। सूबे के मुख्यमंत्री ने कुछ दिनों पहले ही ऐलान किया था कि नान परफार्मर मिनिस्टर को बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा। ऐसे में इन सात रत्नों का एक साथ इकट्ठा होना एक बड़े संदेश को जन्म देता है। जाहिर है कि ऐसे में जब सरकार ठीक-ठाक चल रही हो तो इसे प्रेशर पोलिटिक्स कहा जाएगा। उधर इस मामले में मंत्री पीसी शर्मा का कहना है कि राजनेताओं के बीच इस प्रकार खाने-पीने के आयोजन तो होते ही रहते हैं। इसको राजनीतिक चश्मे से नहीं देखना चाहिए….। – खबरची