जेल से चार कैदी फरार, जेलर समेत 4 प्रहरी निलंबित

फरार हुए कैदियों पर 50-50 हजार का इनाम घोषित
नीमच, 23 जून।
मध्य प्रदेश के नीमच जिला मुख्यालय से करीब पांच किलोमीटर दूर कनावटी उपजेल से चार कैदी जेल तोड़कर रविवार को फरार हो गए। फरार हुए इन कैदियों में दो राजस्थान के खूंखार सजायाफ्ता मादक पदार्थ तस्कर शामिल हैं। रविवार अल सुबह तीन से चार बजे के बीच जेल के चार कैदी नाहर सिंह (20), पंकज मोंगिया (21), लेख राम (29) एवं दुबे लाल (19) ने अपने बैरक की सलाखे काटकर रस्सी के सहारे जेल की 22 फुट ऊंची दीवार को लांघकर भाग गए। जेल प्रशासन को अंदेशा है कि यह रस्सी कैदियों के मददगारों ने बाहर से फेंकी थी। नाहर और पंकज राजस्थान के क्रमश: उदयपुर और चित्तौड़ के रहने वाले थे और मादक पदार्थ तस्करी के मामले में सजायाफ्ता कैदी थे, जबकि बाकी दोनों मध्य प्रदेश के निवासी थे। वसुनिया ने बताया कि लेख राम मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले का रहने वाला है और वह लूट-हत्या के मामले में आरोपी है, जबकि दुबे लाल मध्य प्रदेश के मंडला जिले का निवासी है और वह आईपीसी की धारा 376 (बलात्कार) के मामले में 10 वर्ष की सजा कटा रहा था। उन्होंने कहा कि घटना की सूचना मिलते ही कलेक्टर अजय गंगवार, पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार सगर सहित आला प्रशासनिक और पुलिस अफसर मौके पर पहुंचे। इसी बीच, पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पुलिस ने अलर्ट जारी कर दिया है। राजस्थान से लगी तमाम सीमाओं को सील कर दिया गया है। साथ ही टोल और बैरियर्स के सीसीटीवी फुटेज भी खंगाले जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि उम्मीद है फरार कैदी जल्द पकड़े जाएंगे। मध्य प्रदेश पुलिस निदेशक जेल डीजी संजय चौधरी ने इन फरार हुए कैदियों पर 50-50 हजार का इनाम घोषित किया है।
मामले में जेलर समेत चार जेल प्रहरियों को निलंबित कर दिया गया। वहीं, फरार कैदियों को गिरफ्तार करने में मदद करने वालों को 50 हजार रुपए इनाम देने का ऐलान भी किया गया। वारदात सुबह 3.30 बजे से 4.30 बजे की है। बैरक नंबर 11 के चार कैदी बैरक के सरिए काटकर बाहर आ गए और जेल की दीवार पर रस्सा डालकर दीवार पर चढ़ गए और बाहर छलांग लगा दी। बैरक के अंदर से आरी के चार पत्ते मिले हैं। जेल में 27 प्रहरी हैं, जिनमें से 7 महिलाएं है।प्रारंभिक जांच में प्रहरियों की लापरवाहीं के साथ वारदात में किसी बाहरी व्यक्ति द्वारा मदद किए जाने की बात सामने आ रही है। सर्कल जेल अधीक्षक आरआर डांगी के मुताबिक, जेल प्रहरियों विजेंद्र धाकड़, ईश्वर, संचित शर्मा और बालमुकुंद लवाना को लापरवाही बरतने पर निलंबित कर दिया है। इसके साथ ही जेलर वसुनिया को भी सस्पेंड कर दिया गया।