पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू करने पर विचार:बाला बच्च्न

किसी दबाव में मुख्यमंत्री रुकते नहीं, शीघ्र ही होगा
राजनीतिक संवाददाता
भोपाल, 18 अगस्त।
मध्यप्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन ने आज उस नौकरशाही पर हमला बोल दिया, जो मध्यप्रदेश में पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू करने के लिए बाधक बने हुए हैं। उन्होंने आज मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी में पत्रकारों के सामने इस रहस्य का उद्घाटन किया कि अब मध्यप्रदेश में शीघ्र ही पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू कर दी जाएगी, जिस पर कमलनाथ सरकार विचार कर रही है। गृह मंत्री ने एक सवाल के जवाब में कहा कि पुलिस आयुक्त प्रणाली लागू नहीं करने को लेकर किसी का भी कोई दबाव नहीं है और न ही मुख्यमंत्री कमलनाथ किसी दबाव में काम करने वाले हैं। उन्होंने कहा कि सभी पक्षों से विचार करने के बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा और बदलाव के साथ सरकार पूरी तरह वचनबद्ध है और अपने वचन पत्र में किए गए वायदों को निभाने के लिए पूरी तरह संकल्पित है। बाला बच्चन ने कहा कि शिवराज सरकार के कार्यकाल के आपराधिक आंकड़ों की कमलनाथ सरकार से जब तुलना की गई, तब 6 महीनों के भीतर ही जो अपराधों में कमी आई है, वह एक रिकार्ड है। बच्चन ने कहा कि मादक पदार्थों की तस्करी से जुड़े माफिया के खिलाफ एक अगस्त से ऑपरेशन प्रहार शुरू किया है। इसमें अब तक 300 आरोपितों की गिरफ्तारी हुई है। 32 मामलों में 38 को पकड़कर करीब 350 ग्राम स्मैक, दो मामलों में चार आरोपितों से 1630 ग्राम अफीम, 174 मामलों में 215 आरोपितों से 343 किलोग्राम गांजा, एक मामले में 200 ग्राम चरस, 11 प्रकरणों में 2424 किलोग्राम कैमिकल्स ड्रग्स जब्त किया हैं। वहीं गांजे के आठ प्लांट भी पकड़े हैं।

पुलिस न हफ्ता लेती है, न महीना
बच्चन ने सतना में हुई हत्या की घटना को लेकर किए गए सवालों पर कहा कि वारदात आपसी रंजिश के कारण हुई है। जमीन के विवाद में हत्या हुई है। उन्होंने कहा कि पुलिस के खिलाफ शिकायतों पर सख्ती से कार्रवाई की जाती है। पुलिस न हफ्ता लेती और न ही महीना। शिवराज सरकार की तुलना में डकैती 68 फीसदी कम हुई हैं। इसी तरह अपराध भी कम हुए हैं।