जेठमलानी का निधन

नयी दिल्ली, 8 सितंबर। पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं जाने-माने अधिवक्ता वकील राम जेठमलानी का रविवार सुबह यहां उनके आवास पर निधन हो गया। वह 95 वर्ष के थे। जेठमलानी मौजूदा समय में राज्यसभा के सांसद थे और काफी समय से बीमार चल रहे थे। जेठमलानी के बेटे महेश जेठमलानी भी जाने-माने अधिवक्ता हैं और उनकी एक बेटी अमेरिका में रहती है। जेठमलानी का जन्म सिंध प्रांत के सिखारपुर में 14 सितंबर 1923 को हुआ था। वह पहली बार 1959 में केएम नानावती बनाम महाराष्ट्र सरकार का मामला लडऩे के बाद चर्चित हुए थे। उन्होंने राजीव गांधी के हत्यारों के पक्ष में भी केस लड़ा था और शेयर बाजार घोटाले में हर्षद मेहता तथा केतन पारेख का मामला भी लड़ा था।
कोविंद, वेंकैया-मोदी सहित कई नेताओं ने जताया शोक: राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित विभिन्न राजनीति दलों के नेताओं तथा अन्य विशिष्ट व्यक्तियों ने जाने-माने अधिवक्ता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री राम जेठमलानी के निधन पर गहरा शोक जताते हुए कहा कि देश ने महान विधिवेत्ता खो दिया है।
कोविंद ने अपने शोक संदेश में कहा पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं जाने-माने अधिवक्ता राम जेठमलानी के अचानक निधन से दुखी हूं। वह विशिष्ट वाक्पटुता के साथ सार्वजनिक मुद्दों पर अपने विचार व्यक्त करने के लिए जाने जाते थे। राष्ट्र ने एक प्रतिष्ठित न्यायविद और महान विद्वान को खो दिया है। नायडू ने कहा, राम जेठमलानी का निधन मेरी व्यक्तिगत क्षति है। मैंने अपना मित्र और निकट सहयोगी खो दिया है। ईश्वर उन्हें आशीर्वाद दें और हम सबको यह दु:ख वहन करने के लिए धैर्य दें। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने शोक संदेश में कहा, राम जेठमलानी जी के निधन से भारत ने एक असाधारण अधिवक्ता और प्रतिष्ठित जनसेवक खो दिया, जिसने अदालत और संसद में महत्वपूर्ण योगदान दिया। वह विनोदी स्वभाव के और साहसी व्यक्ति थे तथा कभी भी किसी भी विषय पर दृढ़ता से अपने विचार को रखने से नहीं कतराते थे। मोदी ने कहा कि जेठमलानी जी की सबसे अच्छी खूबियों में से एक खूबी यह थी कि वह अपनी बात बिना किसी भय के व्यक्त करते थे। आपातकाल के काले दिनों के दौरान उनकी दृढ़ता और आम लोगों की स्वतंत्रता के लिए लड़ाई को हमेशा याद रखा जाएगा। जरूरतमंदों की मदद करना उनके व्यक्तित्व का एक अभिन्न हिस्सा था।

मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा शोक व्यक्त
भोपाल। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने वरिष्ठ अधिवक्ता एवं राजनीतिज्ञ श्री राम जेठमलानी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने शोक संदेश में कहा कि देश ने एक प्रतिभाशाली विधिवेत्ता खो दिया है। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति और परिजनों को यह दु:ख सहने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।