भारत ने दुनिया को युद्ध नहीं, बुद्ध दिए: मोदी

प्रधानमंत्री ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाक और आतंकवाद पर साधा निशाना
न्यूयॉर्क, 27 सितंबर।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र को संबोधित कर रहे थे। यह यूएन में उनका दूसरा भाषण है। मोदी ने कहा कि गांधीजी की 150वीं जयंती पर यहां संबोधन करना गर्व का विषय है। उन्होंने कहा कि भारत ने मुझे जो पहले से ज्यादा मजबूत जनादेश दिया है, उसकी वजह से मैं यहा दोबारा खड़ा हूं। मोदी ने आतंकवाद पर भी चर्चा की। उन्होंने कहा कि हम उस देश के वासी हैं, जिसने दुनिया को युद्ध नहीं, बुद्ध दिए। उन्होंने कहा कि मानवता की खातिर आतंक के खिलाफ विश्व का एकजुट होना जरूरी।
गांधी का संदेश आज भी प्रासंगिक
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने संबोधन की शुरुआत करते हुए कहा, ‘इस वर्ष पूरा विश्व महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा था। सत्य और अहिंसा का उनका संदेश विश्व की प्रगति के लिए आज भी प्रासंगिक है। इस वर्ष दुनिया का सबसे बड़ा चुनाव हुआ। दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में दुनिया में सबसे ज्यादा लोगों ने वोट देकर मुझे और मेरी सरकार को पहले से ज्यादा मजबूत जनादेश दिया। इस जनादेश की वजह से ही आज मैं यहां आज सब के बीच हूं। लेकिन इस जनादेश से निकला संदेश ज्यादा व्यापक और प्रेरक है।
भारत की व्यवस्थाएं प्रेरक संदेश देती हैं
प्रधानमंत्री ने कहा, जब एक विकासशील देश दुनिया का सबसे बड़ा स्वच्छता अभियान सफलतापूर्वक संपन्न करता है। सिर्फ 5 साल में 11 करोड़ से ज्यादा शौचालय बनाकर अपने देशवासियों को देता है तो उसके साथ बनी व्यवस्थाएं पूरी दुनिया को एक प्रेरक संदेश देती है। जब एक विकासशील देश दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम सफलतापूर्वक चलाता है। 50 करोड़ लोगों को 5 लाख रुपए तक के मुफ्त इलाज की सुविधा देता है तो उसके साथ बनी संवेदनशील व्यवस्था पूरी दुनिया को नया मार्ग दिखाती है।
सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करने का अभियान शुरू
उन्होंने कहा- जब एक विकासशील देश अपने नागरिकों के लिए दुनिया का सबसे बड़ा डिजिटल आइडेंटिफिकेशन प्रोग्राम चलाता है, उनको पहचान देता है और भ्रष्टाचार रोककर 20 अरब डॉलर बचाता है तो वह व्यवस्था पूरी दुनिया के लिए उम्मीद लेकर आती है। मैंने संयुक्त राष्ट्र की दीवार पर पढ़ा- नो मोर सिंगल यूज प्लास्टिक। आज जब मैं आपको संबोधित कर रहा हूं, तब इस वक्त हम आज भी पूरे भारत को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त करने के लिए बड़ा अभियान चला रहे हैं।Ó मोदी के इस वक्तव्य पर संयुक्त राष्ट्र महासभा में जमकर तालियां बजीं। मोदी ने कहा- हम 15 करोड़ घरों को पानी की सप्लाई से जोडऩे वाले हैं। हम दूरदराज के गांवों में सवा लाख किमी से ज्यादा नई सड़कें बनाने जा रहे हैं। 2022 में जब भारत अपनी स्वतंत्रता के 75 वर्ष का पर्व मनाएगा तब हम 2 करोड़ घरों का निर्माण करेंगे।
2014 में मोदी ने यूएन में आतंकवाद के मुद्दे पर बात की थी
इससे पहले मोदी 2014 में महासभा की बैठक में शामिल हुए थे। मोदी ने 27 सितंबर 2014 को यूएन में दिए अपने भाषण में वैश्विक आतंकवाद पर व्यापक संधि को स्वीकार करने की अपील की थी और पाकिस्तान को द्विपक्षीय वार्ता के लिए माहौल बनाने को कहा था। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में तत्काल सुधार की भी बात कही थी।