खाना साथ खाया, पर बात नहीं हुई…


प्रदेश में पिछले दिनों दो बड़े कद्दावर नेताओं की आपसी मुलाकात को लेकर कई कयास लगाए जा रहे थे। लोग इन मुलाकातों को लेकर बड़े राजनैतिक परिवर्तन की ही बात कर रहे थे, लेकिन अब नेताजी ने खुद कबूल लिया कि महाराज आए थे। हमने साथ बैठकर तीतर-बीतर खाया, लेकिन बात कुछ नहीं हुई। दरअसल पिछले दिनों कांग्रेस के एक राष्ट्रीय स्तर के नेता और भिंड चंबल से आने वाले कैबिनेट के कद्दावर मंत्री के बीच डिनर पर मुलाकात हुई और इसको लेकर राजनीतिक सरगर्मी तेज रही। प्रदेश की राजनीति में मंत्री एक गुट विशेष के समर्थक हैं और जब राजा का फोन इसी मसले पर मंत्री के पास आया तो उन्होंने दो-टूक कह दिया कि महाराज आए थे हमने साथ खाना खाया, लेकिन बात कुछ नहीं हुई। उल्लेखनीय है कि यह वाक्या मंत्री गोविन्द सिंह को लेकर नहीं लिखा गया है। …. खबरची