केरल विमान हादसे के घटनास्थल पर दौरे के लिए पहुंचेंगे सीएम पिनरई विजयन

नई दिल्ली | कोरोना के बीच वंदे भारत मिशन के तहत दुबई से 190 लोगों को ला रहा एअर इंडिया एक्सप्रेस का विमान केरल के कोझिकोड रनवे पर फिसल गया और बड़ा हादसा हो गया। इस घटना में पायलट समेत कुल 20 लोगों की मौत हुई, जबकि कई यात्री घायल हुए हैं।  रनवे पर फिसलने के बाद विमान एयरपोर्ट से सटी घाटी में करीब 50 फीट गहरी खाई में गिरकर दो हिस्सों में टूट गया।

नागर विमानन मंत्रालय ने कहा कि बी737 द्वारा दुबई से संचालित उड़ान संख्या आईएक्स1344 शुक्रवार को कोझिकोड में शाम सात बजकर 41 मिनट पर रनवे पर फिसल गई। ‘लैंडिंग के समय आग लगने की कोई खबर नहीं है।’ मंत्रालय ने कहा, विमान में 10 नवजात समेत 184 यात्री, दो पायलट और चालक दल के चार सदस्य थे। 

-केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान और मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन आज करिपुर का दौरा करने के लिए जाएंगे। घटना में दो पायलटों समेत 17 लोगों की जान चली गई है।

रक्तदान करने के लिए युवाओं की कतार लगी 

-कई युवाओं को सरकारी मेडिकल कॉलेज कोझिकोड में रक्तदान के लिए कतार में खड़ा देखा गया। अस्पताल ने कल रात लोगों से अनुरोध किया था कि वे एयर इंडिया एक्सप्रेस के विमान दुर्घटना पीड़ितों के इलाज में मदद करें।

कोझीकोड हवाई अड्डे पर सेवाएं अस्थायी रूप से निलंबित कर दी गईं

-कोझिकोड हवाई अड्डे पर सेवाओं को अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया गया है। आने वाली सभी उड़ानों को कन्नूर और कोचीन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर भेज दिया गया है।

केरल विमान दुर्घटना में 123 लोग घायल हुए

-एयर इंडिया एक्सप्रेस कालीकट विमान में सवार 190 लोगों में से 123 घायल हुए। मृतकों का पोस्टमार्टम करने के लिए एक विशेष टीम बनाई गई है, जिसके बाद शवों को निकाला जाएगा। कोविड -19 टेस्ट भी कराया जाएगा।

सुरक्षित बचे लोग पायलट को बता रहे हैं बहादुर 

-केरल विमान दुर्घटना में बचे लोगों का कहना है कि “बहादुर पायलट और सतर्क स्थानीय लोगों ने और अधिक बड़ी त्रासदी को टाल दिया।” लोग मदद के लिए घटनास्थल पर पहुंच गए और यात्रियों को निकाला। हालांकि यह एक रेस्क्यू विमान था जिसमें उन्होंने धुएं और मामूली आग की अनदेखी करते हुए उड़ान भरी थी।