घर के किचन तक आयुष को पहुंचाना मेरा लक्ष्य : रामकिशोर कांवरे

आयुष मंत्री ने विभाग को लेकर तैयारी की लंबी कार्ययोजना, ४५ आयुष ग्रामों की संरचना में होगा बदलाव

विशेष साक्षात्कार
ऋषिकांत सिंह (रजत) परिहार
मो.09425002527

180 लोग है अटैच

प्रदेश भर में आयुष विभाग के कई लोग अधिक समय से अटैच होना और बिना नियम के संविलियन होने के बारे में आयुष मंत्री रामकिशोर कांवरे ने कहा कि करीब 180 रीडर,मेडिकल ऑफिसर,व्याख्याता,प्रोफेसर अटैच हैं। यह अटैचमेंट किस अधिकारी ने किन नियमों के तहत किए हैं, इसकी पूरी जानकारी बुलाई हैं। अगर संविलियन या अटैचमेंट के कोई स्पष्ट नियम नहीं है तो ऐसे लोगों को अपनी मूल पदस्थापना में भेजा जायेगा और दोषी अधिकारी पर कार्रवाई की जाएगी। आपको यहां बता दे कि आयुष विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने अटैचमेंट और संविलियन करने के मामले में सारे नियमों को दरकिनार करते हुए खूब लाभ लिया हैं। जिसकी चर्चा मंत्रालय की गलियारों में इन दिनों जोरों पर हैं।

जिल उन्हें मिलती है जिनके सपनों में जान होती है, पंख से कुछ नहीं होता हौसले से उड़ान होती है…। किसी शायर की यह लाइनें बहुत लोगों ने पढ़ी और सुनी होगी, लेकिन प्रदेश के आयुष मंत्री रामकिशोर कांवरे ने इसे खूब ठीक से समझा और हौसले के दम पर आयुष विभाग को लोगों के किचन तक पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया। उन्होंने आयुष विभाग को प्रथम पंक्ति में लाकर खड़ा करने और व्यापक स्तर पर लोग आयुष पद्धति से जुड़े इसके लिए एक लंबी कार्ययोजना तैयार की हैं। जिसे वे धीरे-धीरे धरातल पर ला रहे है। राष्ट्रीय हिन्दी मेल के इस प्रतिनिधि को दूरभाष पर एक विशेष चर्चा में आयुष मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रामकिशोर कांवरे ने बताया कि पूरे प्रदेश में 362 हेल्थ एंड वेलनेश सेंटर बनाये जाएंगे। जिसमें पंचकर्म,हर्बल गार्डन, 5 डाक्टरों की टीम, मशाज सेंटर सहित अन्य सुविधा होगी। यह हेल्थ एंड वेलनेश सेंटर लगभग 15 लाख रूपए में बनकर तैयार होंगे। आयुष मंत्री रामकिशोर कांवरे ने कहा कि प्रदेश में 45 आयुष ग्राम है, जिनकी संरचना में बदलाव करके इन ग्रामों के घर तक आयुर्वेद को एक विशेष सर्वे के माध्यम से जोडऩे का काम किया जायेगा। मतलब गांव के प्रत्येक व्यक्ति के स्वास्थ्य की जानकारी पूरी अपडेट रहेगी। साथ ही आयुष ग्रामों में पंचकर्मा की भी व्यवस्था करना हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के इस दौर में विभाग द्वारा अभी तक 2 करोड़ चूर्ण के पैकेट बांट चुके है तथा 20 हजार कोरोना पॉजिटिव मरीजों को आरोग्य कषायम- 20 दिया जा चूका है। आयुष मंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश के जंगलों में औषधियों का भंडार हैं, जिसकी खरीदी लघु वनोपज संघ के माध्यम से भी करने की कार्ययोजना हैं। इतना ही नहीं किसानों को औषधी खेती से जोडऩे की दिशा में आगे काम करेंगे। उन्होंने कहा कि जल्दी पर्यटन के क्षेत्र में आयुष की इंट्री होने वाली है, अर्थात पर्यटन वाले स्थानों पर आयुष विभाग विदेशी सैलानियों के लिए अपने पंचकर्म सेंटर स्थापित करने वाला है। कुल मिलाकर आयुष मंत्री रामकिशोर कांवरे ने यह ठान लिया है कि अब आयुष विभाग को प्रदेश का नंबर-1 विभाग बनाकर लोगों के किचन तक पहुंचाकर इसके लाभ से रू-ब-रू कराना हैं।