भोपाल नगर पालिका निगम में अब नेता नहीं अफसर बनेगा महापौर…?


मध्यप्रदेश की राजनीति में होने वाले 27 विधानसभा के उप चुनावों में सिंधिया का कद बढ़ते देख प्रशासनिक सेवा के कुछ उच्च अधिकारी, कुछ पुलिस अधिकारी अब राजनीति में कूदने की तैयारी कर रहे हैं। पुलिस मुख्यालय में गोपनीय शाखा में कार्यरत एक अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि भोपाल, जबलपुर, इंदौर और ग्वालियर में नगर निगमों के महापौर के चुनाव अब नेता नहीं अफसर लड़ेंगे। उक्त अधिकारी ने यहां तक कहा कि भोपाल में हो एक राज्य प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी ने महापौर के चुनाव लडऩे की रूपरेखा तैयार कर ली है। वे कहते हैं कि यदि भोपाल में पिछड़े वर्ग की लाटरी खुलती है, तो उक्त राज्य प्रशासनिक सेवा के अधिकारी का महापौर के पद पर चुनाव लडऩा तय है। जब उनसे पूछा गया कि बंदा किस पार्टी से टिकट लेने की जुगाड़ में हैं, तो उक्त अधिकारी ने बताया कि वह इतना लोकप्रिय हैं कि दोनों पार्टा वाले ही कह सकते हैं, हमारी ले लो। उल्लेखनीय है कि यह वाक्या राज्य प्रशासनिक सेवा संघ के अध्यक्ष जी.पी. माली को लेकर नहीं लिखा गया है। -खबरची