स्ट्रीट वेंडरों को ऋण देने में भोपाल बना नंबर वन, बाढ़ में जिन लोगों के घर बह गए उन्हें दे रहे हैं प्लॉट: कोलसानी

विशेष संवाददाता : बसंत शर्मा
भोपाल, 15 सितम्बर।
स्ट्रीट वेंडरों को ऋण देने में भोपाल मप्र में नंबर वन है। हम बाढ़ प्रभावितों को ग्रामीण क्षेत्र में प्लॉट दे रहे हैं। यह बात नगर निगम कमिश्नर वीएस चौधरी कोलसानी ने राष्ट्रीय हिंदी मेल के विशेष संवाददाता से चर्चा के दौरान कही। पेश हैं मुलाकात के कुछ खास अंश-
सवाल: स्ट्रीट वेंडरों के लिए नगर निगम क्या कर रहा है?
जवाब: मप्र में सबसे ज्यादा स्ट्रीट वेंडरों के लिए भोपाल नगर निगम ने ऋण उपलब्ध कराया है। 15 सितंबर तक 96,172 स्ट्रीट वेंडरों का पंजीयन हो चुका है। 10,801 प्रकरण स्वीकृत हो चुके हैं।जबकि 5987 प्रकरणों में ऋण वितरित किया जा चुका है।
सवाल: शहर में सड़कों का बुरा हाल है, गड्ढे हो गए हैं?
जवाब: जिन स्थानों पर सड़कें खराब हो गई हैं। उन्हें दुरुस्त करने का काम किया जा रहा है। नई सड़कें भी बनाई जा रही हैं।
सवाल: रोशनी की व्यवस्ता ठप पड़ी है। कई स्थानों में स्ट्रीट लाइट खराब हैं। अंधरे में लोगों को परेशानी हो रही है। निगम की टीम क्या कर रही है?
जवाब: शहर में रोशनी की व्यवस्था के लिए नए टेंडर जारी किए जा रहे हैं। जिन स्थानों से शिकायतें आती हैं, वहां निगम की टीम फौरन पहुंचती है और रोशनी की व्यवस्था की जाती है।
सवाल: स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट की क्या प्रोग्रेस है ?
जवाब: गरीबों को ग्रामीण इलाके में प्लॉट दिए जा रहे हैं। स्मार्ट पार्किंग बनाई जा रही हैं। निगम की टीम ने लक्ष्य निर्धारित किए हैं, जिन पर काम चल रहा है।
सवाल: सफाई की व्यवस्था ढीली पड़ गई है। कई स्थानों पर कचरे का ढेर लगा है। सफाई में भोपाल कैसे नंबर बन बनेगा?
जवाब: भोपाल में हर वार्ड में सफाई की जाती है, जो लोग शिकायत करते हैं, वहां नगर निगम के कर्मचारी पहुंचकर सफाई करते हैं। भोपाल इस बार टॉप-10 शहरों में शामिल था। हमारा प्रयास होगा कि अबकी बार भोपाल सफाई में नंबर वन बने।
सवाल: बाढ़ से कई लोगों के घर उजड़ गए। इन लोगों को नगर निगम ने क्या मदद की ?
जवाब: बाढ़ के दौरान हमने स्कूलों में लोगों के रहने की व्यवस्था की थी। बाढ़ प्रभावितों को रहने-खाने का इंतजाम किया। अब इन्हें दूसरे स्थानों पर रहने के लिए प्लॉट दिए जाएंगे।

शहर में बिजली की व्यवस्था के लिए नए टेंडर जारी, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट पर चल रहा है काम