कमलनाथ ने कांग्रेस को खड़ा कर दिया

मध्यप्रदेश में 17 वर्षों के बाद राजनीतिक दलों में कांग्रेस जो पूरी तरह समाप्ति के कगार पर खड़ी थी अब उसी कांगे्रस को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने इतना आक्सिजन भरा कि वह फिर खड़ी हो गयी है। सूत्रों के अनुसार इस तरह की बातों का सिलसिला कांग्रेस में कम भाजपा में ज्यादा है। एक पूर्व मंत्री अपने दोस्तों से बतियाते हैं और कहते हैं भारतीय जनता पार्टी ने शुरू में जो गलतफहमी पाल ली थी उसका खामियाजा अब भुगतना पड़ सकता है। बताया जाता है कि भाजपा में ये अकेले ही नेता नहीं है एैसे कई नेता है जो महाराजा ज्योतिरादित्य सिंधिया का भाजपा में प्रभाव कम करने के लिये यह मान कर बैठे थे कि यदि घर बैठे चुनाव लड़ा जायेगा तो भी भाजपा को 8 से 10 सीटें मिल जायेगी। इस चक्कर में प्रारंभ का दौर भारतीय जनता पार्टी का 28 विधानसभा के उप चुनावों में प्रचार में पिछड़ गया। परन्तु मतदान के ठीक 4 दिन पहले जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा और कृषि मंत्री कमल पटेल ने हैलिकाप्टरों से कमलनाथ के बराबर उड़ान भरी तब भाजपा की सांस में सांस आई। उक्त पूर्व मंत्री ने कहा अब तो अपन 14 पक्कों में जीत रहे हैं उल्लेखनीय है कि उपरोक्त वाक्या पूर्व मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार से संबंधित नहीं है क्योंकि डॉ. शेजवार तो बेचारे हाथ जोड़-जोड़कर आखरी तक मतदाताओं से यहीं कहते देखे गये कि भाजपा को जीताओ भाई…। -खबरची