युवा कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के लिए विधायकों ने शुरू की लॉबिंग

एनएसयूआई के प्रदेश अध्यक्ष विपिन वानखेड़े का नाम सबसे आगे

हृदेश धारवार, 9755990990
भोपाल, 24 नवंबर।
मध्यप्रदेश में सम्पन्न हुए विधानसभा उपचुनाव के बाद कांग्रेस में यूथ कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के लिए घमासान शुरू हो गया है। यूथ कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के लिए पार्टी के आधा दर्जन विधायक सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं। हालांकि प्रदेश अध्यक्ष बनने के लिए दावेदारों को संगठनात्मक चुनाव की प्रक्रिया से गुजरना होगा। 2023 के विधानसभा चुनाव को देखते हुए यूथ कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव बेहद अहम माना जा रहा है। चुनाव के साथ ही पार्टी में एक बार फिर गुटबाजी उभरकर सामने आने लगी है। यूथ कांग्रेस अध्यक्ष के चुनाव 8 साल बाद होने जा रहे हैं। 8 साल के अंतराल की वजह से एनएसयूआई के कार्यकर्ता भी यूथ कांग्रेस के सदस्य बन चुके हैं। इसलिए इस बार का चुनाव और भी अधिक दिलचस्प हो गया है। मध्यप्रदेश में यूथ कांग्रेस के करीब सवा तीन लाख वोटर्स हैं। जो यूथ कांग्रेस अध्यक्ष का चयन करेंगे। यूथ कांग्रेस अध्यक्ष पद के दावेदारों ने नामांकन भरना शुरू कर दिया है। 25 नवंबर नामांकन दाखिल करने की अंतिम तिथि है। इस बार यूथ कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के लिए करीब 8 दावेदार हैं। सभी दावेदारों ने मतदाताओं से संपर्क करना शुरू कर दिया है। जानकारी के मुताबिक 2018 तक यूथ कांग्रेस में मतदाताओं की संख्या 2 लाख 10 हजार थी, बाद में एक सप्ताह के लिए सदस्यता शुरू की गई थी। नए सदस्य जु?ने के बाद मतदाताओं की संख्या सवा 3 लाख बताई जा रही है।
जयवर्धन और नकुलनाथ कर रहे विपिन वानखेड़े के लिए लॉबिंग
यूथ कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद के लिए करीब आधा दर्जन दावेदार मैदान में है। पार्टी सूत्रों की माने तो पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के बेटे सांसद नकुल नाथ आगर मालवा के नवनिर्वाचित विधायक विपिन वानखेड़े के लिए लॉबिंग कर रहे हैं। जयवर्धन सिंह और नकुल नाथ ने 2023 के विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रदेश में अपनी टीम तैयार करने के लिए विपिन वानखेड़े का समर्थन कर रहे हैं। इसके अलावा जयवर्धन सिंह और नकुल नाथ मालवा में जीतू पटवारी के खिलाफ विपिन वानखेड़े को तैयार करना चाहते हैं। जिस तरह से कांग्रेस में जीतू पटवारी का राजनीतिक कद बढ़ रहा है उससे जयवर्धन और नकुलनाथ अपने राजनीतिक भविष्य को लेकर चिंतित हैं। यही वजह है कि दोनों विपिन वानखेड़े का समर्थन कर रहे हैं। इसके अलावा विधायक कुणाल चौधरी और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी संजय यादव का समर्थन कर रहे हैं। इसलिए चुनाव में कशमकश की स्थिति बनी हुई है।

. यह है यूथ कांग्रेस अध्यक्ष पद के दावेदार
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व केंद्रीय मंत्री व विधायक कांतिलाल भूरिया के बेटे विक्रांत भूरिया यूथ कांग्रेस अध्यक्ष के लिए मैदान में हैं। बताया जाता है कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह भी विक्रांत भूरिया का समर्थन कर रहे हैं। इनके अलावा सिद्धार्थ, सोमेल नहाटे, शास्वत, मोना कौरव और संजय यादव, एनएसयूआई के प्रदेश प्रवक्ता विवेक त्रिपाठी प्रबल दावेदार है। विवेक त्रिपाठी छात्र राजनीति से कांग्रेस में भी सक्रिय हैं। पिछले 8 साल से एनएसयूआई के प्रदेश प्रवक्ता के तौर पर काम कर रहे हैं। नए मतदाताओं में सबसे अधिक संख्या एनएसयूआई के कार्यकार्यताओं की बताई जा रही है। इसलिए विवेक त्रिपाठी को यूथ कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के लिए मैदान में उतरे हैं।