दिग्विजय सिंह खनिज और शराब माफिया कमलनाथ सदी के भ्रष्टतम मुख्यमंत्री : मिश्रा

जबलपुर से विशेष रिपोर्ट
राष्ट्रीय हिन्दी मेल
जबलपुर, 17 दिसम्बर।
गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कमलनाथ सरकार अब तक की भ्रष्टतम सरकार थी और कमलनाथ सदी के सबसे भ्रष्टतम मुख्यमंत्री बताया है। कमलनाथ सरकार के दौरान वल्लभ भवन दलालों का अड्डा बन गया था। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि यह आरोप हमारे नहीं हैं, बल्कि यह आरोप उस रिपोर्ट से उजागर हो रहे हैं जो चुनाव आयोग के जरिए उन्हें मिली है। गृहमंत्री का कहना है कि ऐसा शायद पहली बार हो रहा है कि भ्रष्टाचार के आरोप में 3 आईपीएस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि सदी के सबसे भ्रष्टतम मुख्यमंत्री कमलनाथ थे। यह मैं नहीं कह रहा अप्रेजल रिपोर्ट में सामने आई है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि दिग्विजय सिंह माइनिंग माफिया और शराब माफिया है, ऐसा मैं नहीं कहता कमलनाथ सरकार में वन मंत्री रहे उमंग सिंघार कहते है। गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा नए कृषि बिल पर बात करते हुए कह कि लोगों का कहना है कि देश की मंडियां बंद हो जाएंगी। किसानों को मिलने वाला लाभ बंद हो जाएगा। हम चीख-चीखकर कह रहे है कि ऐसा कुछ नहीं होगा पर लोग मानने को तैयार नहीं है, क्यों, क्योकि इसके पिछे जो लोग बैठे है वो भारत तेरे टुकड़े होंगे, इंशाअल्लाह-इंशाअल्लाह, भारत की बर्बादी तक जंग चलेगी जंग चलेगी, एक अफजल मारोगे तो हर घर से अफजल निकलेगा, अफजल हम शर्मिंदा है, तेरे कातिल जिंदा है, यह वो लोग है और हम वो लोग है कि घर में घुसकर मारेंगे, जिस घर में अफजल निकलेगा। नक्सवाद पर बोले नरोत्तम मिश्रा
नरोत्तम मिश्रा ने अपने दौरे के बारे में बताते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में अब ना तो डाकू बचे हैं ना उन्होंने माफिया को बचने दिया है और अपराधियों के खिलाफ भी लगातार कार्रवाई की जा रही है। नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि नक्सली यदि मध्य प्रदेश की सीमा में घुसे तो उन्हें भून दिया जाएगा. नरोत्तम मिश्रा ने जबलपुर में पुलिस विभाग की बैठक ली। हालांकि बैठक 10 मिनट से ज्यादा नहीं चली। जबलपुर में पुलिस के कामकाज की समीक्षा करने के बाद नरोत्तम मिश्रा यहां से रवाना हो गए।

3 आईपीएस अधिकारियों पर कार्रवाई
चुनाव आयोग ने मध्य प्रदेश के सीईओ को तीन आईपीएस अधिकारियों और अन्य लोगों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने का आदेश दिया है। साल 2019 के आम चुनावों के दौरान काले धन के इस्तेमाल में इन अधिकारियों की कथित भूमिका सामने आई थी.आईटी विभाग ने पूर्व सीएम कमलनाथ के करीबियों पर छापामार कार्रवाई की थी।

आयोग ने केंद्रीय गृह सचिव को आईपीएस अधिकारियों के खिलाफ उचित विभागीय कार्रवाई शुरू करने के लिए भी कहा है। साथ ही मध्य प्रदेश के मुख्य सचिव को राज्य पुलिस सेवा के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है।

कानून-व्यवस्था से खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं
गृह मंत्री ने की कानून-व्यवस्था की बालाघाट -जबलपुर में समीक्षा
भोपाल, 17 दिसम्बर।
प्रदेश में कानून-व्यवस्था से खिलवाड़ करने वालों के साथ कोई रियायत नहीं बरती जाये। कानून-व्यवस्था से खिलवाड नाकाबिले बर्दाश्त है। संबंधितों के विरुद्ध कठोरतम कार्यवाही सुनिश्चित करें। गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बालाघाट और जबलपुर में कानून-व्यवस्था की समीक्षा करते हुए पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को उक्त निर्देश दिये। बालाघाट में डॉ. मिश्रा ने नक्सलियों के उन्मूलन में कत्र्तव्य निर्वहन कर रहे जवानों को सम्मानित किया। गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने गुरुवार को सुबह बालाघाट में कानून-व्यवस्था की समीक्षा करते हुए नक्सली गतिविधियों को सख्ती से नियंत्रित करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि नक्सलियों के खिलाफ कार्यवाही में कोई कोर-कसर नहीं रखी जाये। उन्होंने कहा कि नक्सली समस्या से निपटने के लिये बालाघाट जिले को सुरक्षा बलों की 6 और कम्पनियाँ दी जायेंगी। डॉ. मिश्रा ने कहा कि क्षेत्र के विकास और नक्सलियों के उन्मूलन के लिये मददगार पुलिस विभाग द्वारा 42 सड़कों के निर्माण की स्वीकृति प्रदान की जायेगी। गृह मंत्री ने जबलपुर में कानून-व्यवस्था की समीक्षा करते हुए भू-माफिया और अतिक्रमण जैसे कार्यों के विरुद्ध नियमित रूप से कार्यवाही जारी रखने के निर्देश दिये। डॉ. मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश में कानून का राज है, किसी को भी इसमें हस्तक्षेप करने की इजाजत नहीं दी जा सकती है। जो भी कानून के साथ खिलवाड़ करने की कोशिश करे, उसके साथ पुलिस प्रशासन सख्ती से पेश आये।

काम ऐसा कि नाम हो और नाम ऐसा कि काम हो

गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने बालाघाट में नक्सली उन्मूलन मुहिम में लगे जवानों को सम्मानित करते हुए कहा कि जिंदगी में काम ऐसा होना चाहिये कि नाम हो जाये। नाम ऐसा होना चाहिये कि सुनते ही काम हो जाये। उन्होंने नक्सलियों के खिलाफ कर्त्तव्यनिष्ठा और समर्पण भाव से निरंतर काम करने वाले जवानों की मुक्त कंठ से सराहना की। डॉ. मिश्रा ने कहा कि प्रदेशवासी नक्सलियों के विरुद्ध जवानों द्वारा की जा रही कार्यवाही से गौरवान्वित हैं। ऐसे बहादुर जवानों को सम्मानित करते हुए उन्हें बेहद प्रसन्नता हो रही है।

बालाघाट के सम्मान समारोह में राज्य मंत्री आयुष (स्वतंत्र प्रभार) जल-संसाधन विभाग रामकिशोर ‘नानो कांवरे, सांसद बालाघाट ढाल सिंह बिसेन, पूर्व कृषि मंत्री एवं विधायक गौरीशंकर बिसेन, पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक नक्सल अभियान जी.पी. सिंह, विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी (गृह मंत्री) अशोक अवस्थी एवं वरिष्ठ पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।