पुलिस गृह निर्माण मंडल के प्रबंध निदेशक पद पर अब दावेदारी असंभव…


मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने आज आनन-फानन में पुलिस गृह निर्माण मण्डल के प्रबंध निदेशक अजय शर्मा को स्थानांतरित करते हुए आथर््िाक अपराध अनुसंधान (श्वह्रङ्ख) का प्रभारी महानिदेशक बनाकर भेजा तो, यहां पूर्व में पदस्थ एक आईपीएस अधिकारी प्रबंध निदेशक की बांछें खिल गईं। सूत्र बताते हंै कि उपरोक्त पूर्व प्रबंध निदेशक ने अपना जोड़-तोड़ शुरू कर दिया है। लेकिन उच्च पदस्थ मुख्य सचिव के समकक्ष एक नौकरशाह ने दावा किया है कि अब पुलिस गृह निर्माण निगम में किसी भी Óडाउट फुल इंटिगरिटीÓ वाले आईपीएस की पोस्टिंग नहीं होगी, क्योंकि 15 महीनों की सरकार में पुलिस कर्मियों के 7000 मकान एक एमडी के दुराचार के कारण नही बन पाए, इसलिए पुराना वाला एमडी असंभव है। उल्लेखनीय है कि उपरोक्त वाक्या पूर्व प्रबंध निदेशक आईपीएस अधिकारी संजय माने को लेकर नहीं लिखा गया है। -खबरची

खनिज मामलों में लागू होगी राज्य मुकदमा प्रबंधन नीति-2018
केन्द्र ने राज्य सरकार को पत्र लिखकर मांगी जानकारी, विभाग ने प्रस्ताव तैयार कर शासन को भेजा