कलेक्टर ने कहा- मैं ‘डिजेक्टेड’ महसूस कर रहा हूं…

मध्यप्रदेश में आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कलेक्टर-कमिश्नर कांफ्रेंस कई अर्थों में अत्यंत महत्वपूर्ण साबित हुआ है। मुख्यमंत्री की भाषा और गुड गवर्नेंस की परिभाषा कुछ कलेक्टरों को समझ में आई तो कुछ कलेक्टरों के पाजामे भी ढीले हो गए। इसी श्रृंखला में एक जिला कलेक्टर ने अपनी कमजोरी छिपाते हुए किसी वरिष्ठ नौकरशाह से कहा ‘सर मैं अपने आपको डिजेक्टेड महसूस कर रहा हूं।Ó उक्त कलेक्टर के कहने का मतलब था वह मुख्यमंत्री की डांट से असहज महसूस कर रहे हैं और सोच रहे हैं कि इस छोटे से जिले में छोटी-सी गलती के लिए मुख्यमंत्री जी इतना क्यों भड़कते हैं। बताते हैं उक्त कलेक्टर ने यह माना कि यदि एसपी का ट्रांसफर हुआ तो उनका भी ट्रांसफर तय है। इसलिए डिफेंसिव होना ज्यादा अच्छा है। सूत्रों के अनुसार अभी-अभी कलेक्टर बने बमुश्किल पहली बार छोटा-सा जिला मिला, उसमें डिजेक्टेड शब्द की डिस्कवरी का अर्थ ढूंढा जा रहा है। बताया जाता है कि मुख्यमंत्री तक उक्त कलेक्टर की डिजेक्टेड वाली खबर पहुंचा दी गई है और मुख्य सचिव संभवत: डिजेक्टेड शब्द की छानबीन भी कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि उपरोक्त वाक्या निवाड़ी जिले के कलेक्टर आशीष भार्गव को लेकर नहीं लिखा गया है। -खबरची