बैंक प्रबंधन और ऑडिटर्स जिम्मेदार

नई दिल्ली, 21 फरवरी। पंजाब नेशनल बैंक में हुए 11300 करोड़ रुपए के घोटाले पर पीएम नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री जेटली की चुप्पी पर विपक्ष लगातार हमलावर रहा है। इस मामले में अब तक न तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ बोला है और न ही वित्त मंत्री अरुण जेटली ने, हालांकि मंगलवार देर शाम वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इस मामले पर अपनी चुप्पी तोड़ी और इस घोटाले के लिए ऑडिटर्स और बैंक प्रबंधन को जिम्मेदार ठहराया। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि ऑडिटर्स और प्रबंधन की विफलता के कारण इतना बड़ा घोटाला हो गया, उन्होंने सवाल किया कि 6 साल की ऑडिट में यह घोटाला क्यों नहीं पकड़ा गया, उन्होंने कहा कि ऑडिट टीम से इस बारे में पूछताछ भी की जाएगी।
वित्त मंत्री ने कहा कि ऑडिट करने वालों को अपने आप से पूछना चाहिए कि वे अनियमिताओं को क्यों नहीं पकड़ पाते, उन्होंने कहा कि बैंकों का प्रबंध तंत्र अपनी जिम्मेदारी पर खरा नहीं उतरा है, क्योंकि वे यह पता करने में विफल रहे हैं कि उनके बीच में वे कौन हैं जो गड़बड़ी करने वाले हैं, इसके साथ वित्त मंत्री ने इस बात पर भी जोड़ दिया कि निगरानी एजेंसियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि छुटपुट मामलों को शुरू में ही पकड़ लिया जाना चाहिए और उनकी पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए। वित्त मंत्री ने कहा कि निगरानी एजेंसियों को यह पता लगाने की जरूरत है कि अनियमिताओं को पकडऩे के लिए किस तरह की नयी प्रणालियों को अपनाया जाना चाहिए, उन्होंने कहा कि बैंकिंग प्रणाली के साथ धोखाधड़ी करने वालों बख्शा नहीं जाएगा और सरकार उसे पकड़कर ही रहेगी।
23 फरवरी को होगी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई: पीएनबी घोटाले पर सुप्रीम कोर्ट जल्द सुनवाई को तैयार हो गया है। कोर्ट मामले पर शुक्रवार को सुनवाई करेगा। वकील विनीत ढांडा ने जनहित याचिका दाखिल कर घोटाले की कोर्ट की निगरानी में जांच कराए जाने और नीरव मोदी का प्रत्यर्पण कर वापस भारत लाए जाने की मांग की है। मंगलवार को ढांडा की ओर से प्रधान न्यायाधीश की पीठ के समक्ष याचिका का जिक्र करते हुए शीघ्र सुनवाई की मांग की गई। कोर्ट ने अनुरोध स्वीकार करते हुए शुक्रवार को सुनवाई की मंजूरी दे दी।े
अभिषेक सिंघवी की पत्नी को ईडी का नोटिस: पंजाब नेशनल बैंक घोटाले मामले में सीबीआई, ईडी समेत अन्य एजेंसियों की कार्रवाई जारी है। इस बीच आयकर विभाग ने मंगलवार को कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी की पत्नी और गजल गायक अनीता सिंघवी को भी नोटिस जारी किया है। आयकर विभाग की जोधपुर सर्किल की ओर से इनकम टैक्स एक्ट के धारा 131 के तहत यह नोटिस भेजा गया है, नोटिस में उनके द्वारा नीरव मोदी की कंपनियों से डील करने का आरोप है, जिसमें चेक या कैश में 5 करोड़ रुपए की पेमेंट की बात कही गई है। कहा जा रहा है कि अभिषेक मनु सिंघवी की पत्नी अनीता ने नीरव मोदी के फर्म से 6.5 करोड़ की ज्वैलरी खरीदा था, जिसमें 5 करोड़ नकद भुगतान किया गया, जबकि 1.5 करोड़ का भुगतान चेक के जरिए किया गया, नोटिस में आईटी विभाग ने नकद भुगतान के स्रोत के बारे में जानकारी मांगी है।
नीरव मोदी ने चि_ी लिख कहा-नहीं लौटा सकता पैसे: पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में सीबीआई-ईडी की कार्रवाई लगातार जारी है। इस बीच नीरव मोदी ने पंजाब नेशनल बैंक को लोन का पैसा चुकाने से साफ मना कर दिया, नीरव की पीएनबी को लिखी एक चि_ी सामने आई है, उनका कहना है कि मामले को सार्वजनिक कर पीएनबी ने लोन की रकम चुकाने के सारे रास्ते बंद कर दिए हैं, इसके कारण उनके बिजनेस को काफी नुकसान हुआ है, अब उनके लिए पैसा चुकाना मुमकिन नहीं है।
अब तक ये कार्रवाई हुई: ईडी ने अब तक मामले में 5674 करोड़ रुपये के हीरे, सोने के जेवर और बेशकीमती रत्न जब्त किए हैं, आयकर विभाग ने कर चोरी की जांच के सिलसिले में गीतांजलि जेम्स, इसके प्रमोटर मेहुल चोकसी और अन्य के नौ बैंक खातों से लेन-देन पर कल रोक लगा दी थी, साथ ही नीरव मोदी, उनके परिवार के सदस्यों और उनके स्वामित्व वाले फर्मों की 29 संपत्तियां कुर्क कर ली गई हैं और 105 बैंक खातों से लेन-देन पर रोक लगा दी गई है।
घोटाले के चलते एजेंसियां घटा सकती है पीएनबी की रेटिंग: पंजाब नेशनल बैंक में हुई धोखाधड़ी के बाद बैंक के सामने साख बनाए रखने का संकट पैदा हो सकता है। हालांकि बैंक ने कहा है कि उसके पास ग्राहकों के कार्य निपटाने के लिए आवश्यक परिसंपत्तियां हैं लेकिन इस बीच खबर आई है कि अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसियों ने बैंक की रेटिंग घटाने के संकेत दिए हैं। 11,400 करोड़ का बैंक घोटाला सामने आने के बाद अब रेटिंग एजेंसियां भी हरकत में आ गई हैं। फिच ने पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) को ‘रेटिंग वाच निगेटिवÓ श्रेणी में रख दिया। इसे पीएनबी की रेटिंग घटाने का संकेत माना जा सकता है। फिच ने कहा, फिच रेटिंग ने पीएनबी में बड़े घोटाले का खुलासा होने के बाद उसे व्यावहारिकता रेटिंग की ‘रेटिंग वाच निगेटिवÓ श्रेणी में रख दिया है। वहीं प्रमुख क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भी बैंक की रेटिंग में कटौती के लिए पीएनबी को समीक्षा में डाल दिया है।