19 मार्च तक न्यायिक अभिरक्षा में रहेगा नितिन बलेचा

निज संवाददाता
रायसेन, 6 मार्च। जिला मुख्यालय पर लोगों की मेहनत की कमाई को दो गुना करने का ख्बाव दिखाकर करोड़ों रूपए की हुई ठगी के मामले में मुख्य आरोपी नितिन बलेचा को सोमवार को रायसेन कोतवाली पुलिस ने कोर्ट में पेश किया गया। जहां कोर्ट के आदेश के बाद आरोपी को 19 मार्च तक की न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया है।
उल्लेखनीय है करीब ढ़ाई साल पहले चिडफंड कर करोड़ों रूपए की ठगी किए जाने का मामला 5 अगस्त 2015 को सामने आया था। जिसकेबाद 30 सितम्बर 2015 को रायसेन कोतवाली पुलिस ने इस मामले में अपराध क्रमांक 512/15 दिनांक 30.09.2015 धारा 420,32, भादवि म.प्र निवेशकों के हितों का संरक्षण अधिनियम की धारा 3,6 के तहत आरोपी बसंत उपाध्याय पुत्र आर पी उपाध्याय, नितिन बलेचा पुत्र कमल बलेचा, नितेन्द्र सिंह पुत्र दिलीप चौहान पर मामला दर्ज करते हुए आरोपी बसंत उपाध्याय पुत्र आर पी उपाध्याय निवासी मुखर्जी नगर को 5 अक्टूबर 2015 गिरफ्तार किया था और इस मामले में अन्य आरोपी फरार थे। जिसके बाद आरोपी बसंत उपाध्याय को इस मामले में हाईकोर्ट से जमानत मिल गई थी। वहीं चिडफंड मामले के मुख्य आरोपी को 27 फरवरी 2018 को रायसेन सीजेएम हिदायत उल्ला खान की कोर्ट में हिरसा हरियाणा की पुलिस ने पेश किया गया था और कोर्ट 5 मार्च 2018 तक आरोपी का पुलिस रिमाण्ड लिए जाने की इजाजत दी गई थी और पुलिस ने मुख्य आरोपी नितिन बलेचा को सोमवार को कोर्ट में पेश किया गया जहां से न्यायालय के आदेश के बाद आरोपी को 19 मार्च तक के लिए न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया है।