बेमौसम बारिश किसानों के लिए बनी आफत

रायसेन, 9 मार्च। बुधवार-गुरूवार की रात्रि करीब 1 बजे से जिला मुख्यालय सहित आसपास के क्षेत्रों में कहीं बूंदा बंदी तो कहीं पर तेज हुई बारिश से किसानों की चिंता बढ़ा दी है। मौसम के अचानक करवट लिए जाने के लिए फिजा में ठण्डक घुल गई है और अब कटने की कगार पर खड़ी गेंहू की फसल में फिर नमी आ गई है। जिससे अब किसानों को गेंहू की फसल काटने के लिए कम से कम 10 दिन और इंतजार करना पड़ेगा। हालाकि क्षेत्र में हुई बारिश से किसानों को ज्यादा नुकसान ना उठाने की बात कहीं जा रही है।
लेकिन अगर मौसम का मिजाज इसी तरह बिगड़ता रहा तो किसानों को बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है। क्षेत्र में बढ़ी मात्रा में गेंहू की पैदावार की जाती है और 10 मार्च के बाद से किसानों द्वारा गेंहू की फसल की कटाई किए जाने का मन बना लिया था। लेकिन मौसम के बिगड़ जाने के बाद हुई बारिश से खेतों में कटने के लिए खड़ी फसल में बारिश का पानी लग जाने की वजह से गेंहू की बालियों में नमी आ गई है और अब फिर किसानों को गेंहू की बालियों को सूखने का इंतजार करना पड़ेगा। वहीं जानकारों की माने तो बारिश की वजह से गेंहू की क्वालिटी में अंतर देखने को मिलेगा। अगर बारिश का दौर नहीं थमा तो गेंहू के उत्पादन पर सीधा असर पड़ेगा।
कटी फसल को नुकसान की संभावना
वहीं गैरतगंज,गढ़ी,नरवर,नकतरा, चिलवाह सहित आदि गांवों में चने एवं मंसूर की फसल किसानों द्वारा काट ली गई है और अब ऐसे में बारिश होने की वजह से फसलों को नुकसान होने की संभावना बढ़ गई है। लेकिन क्षेत्र में हल्की बूंदा बांदी होने से किसानों की फसलों को अधिक नुकसान नहीं होना बताया जा रहा है। जिससे अब किसान प्रार्थना कर रहे है कि बारिश ना हो अगर बारिश होती है तो नुकसान का दायरा बढ़ जाएगा। वहीं अब मौसम के साफ होने का इंतजार कर रहे है कि मौसम के साफ होते ही चना,मंसूर की थ्रेसिंग कार्य किया जा सके।