सहरिया परिवारों को पौष्टिक आहार के लिए मिलेंगे साढ़े चार करोड़

कोलारस में सहरिया विकास यात्रा में मुख्यमंत्री ने कहा
भोपाल, 27 दिसम्बर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि शिवपुरी जिले में सहरिया जनजाति के परिवारों में कुपोषण दूर करने के लिये पौष्टिक आहार के लिये प्रतिमाह 4 करोड़ 50 लाख की राशि परिवार की महिलाओं के खाते में दी जाएगी। उन्होंने कहा कि ऐसे गरीब सहरिया परिवार जिनके पास जमीन का पट्टा नहीं है, उन्हें जमीन का मालिक बनाया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब परिवारों को बिजली के लिए 200 रूपये की राशि प्रतिमाह दी जायेगी। मुख्यमंत्री आज शिवपुरी जिले के कोलारस में सहरिया विकास यात्रा के कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री रूस्तम सिंह और आदिम जाति कल्याण मंत्री लाल सिंह आर्य भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने 18 हजार सहरिया परिवार की प्रत्येक महिला मुखिया को बैंक खाते में एक हजार रूपये की राशि जमा करने का स्वीकृति पत्र सौंपा।
सहरिया जनजाति कल्याण की घोषणाएं
मुख्यमंत्री शिवराज चौहान ने कहा कि कोलारस में 2 करोड़ की लागत से नया बस स्टेण्ड बनाया जाएगा। लुकवास चिकित्सालय में 10 अतिरिक्त बिस्तरों की व्यवस्था की जायेगी। सिंध नदी पर भड़ौता में स्टाप डेम बनाया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सहरिया परिवारों को एक रूपये प्रति किलो गेहूं, चावल, नमक एवं 10 रुपए प्रति किलो की दर पर दाल प्रदाय की जाएगी। उन्होंने कहा कि सहरिया, बैगा और भारिया जनजाति के परिवारों को कुपोषण से मुक्ति दिलाने के लिये प्रत्येक परिवार को प्रतिमाह एक हजार रूपये की राशि दी जायेगी। यह व्यवस्था देश में पहली बार की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सहरिया आवासहीन परिवारों को एक लाख 20 हजार रूपये की राशि पक्के मकान निर्माण के लिये दी जायेगी।
वनभूमि पर रहने वाले वनवासी परिवारों का सर्वे कर पट्टे देने की कार्रवाई भी की जायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि शबरी माता के मंदिर के लिये 7 करोड़ 50 लाख की राशि मंजूर कर दी गई है।
मंदिर के साथ ही सामुदायिक भवन भी बनाया जायेगा। शिवपुरी एवं कराहल में कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्रों, ग्वालियर एवं इंदौर में 17 करोड़ 20 लाख की लागत से बनने वाले छात्रावास, भाषाई शिक्षकों की नियुक्ति और 10 हजार जनजाति के बच्चों को प्रशिक्षण देकर रोजगार देने के आदेश जारी किये जा चुके हैं।
मुख्यमंत्री ने दिलाया संकल्प
मुख्यमंत्री ने उपस्थित सहरिया जनजाति परिवारों को नशामुक्ति का संकल्प दिलाया। मुख्यमंत्री ने एक हजार की पौष्टिक आहार राशि का सदुपयोग करने, अपनी जमीन किसी को नहीं बेचने और परिवार के बच्चों को पढऩे के लिये अनिवार्य रूप से नियमित स्कूल भेजने का भी संकल्प दिलाया। उन्होंने सहरिया परिवारों से झाड़-फंूक से इलाज करवाने जैसे अंधविश्वास से दूर रहने का भी संकल्प दिलाया।