अध्यात्म के बिना राजनीति संभव नहीं

मंत्रालय में बैठने वाले एक आईएएस अधिकारी यह मानते हैं कि कोई भी राजनेता अध्यात्म के बिना कुशल राजनीति नहीं कर सकता। जिलों में पदस्थापना के दौरान जब-जब संकट की स्थिति निर्मित हुई, तब अध्यात्म गुरु के मार्गदर्शन में कामयाबी मिली है। देश को चलाने के लिए आज के राजनेताओं को अध्यात्म का ज्ञान होना जरूरी है। राजनीति में मर्यादाहीन बोली से नेताओं का उथलापन उजागर हो रहा है। देश को चलाने में कार्यपालिका, न्यायपालिका और विधायिका की मुख्य भूमिका है। इसके क्रियान्वयन में अशिक्षित का प्रभाव देश को गर्त में ले जा रहा है। राजनेताओं को देश चलाने के लिए अध्यात्म का मार्गदर्शन जरूरी है। … खबरची