अफसर और अध्यक्ष के बीच खींचातानी

हुनर से जुड़े एक घटक में अफसर और अध्यक्ष की आपस में खूब खींचातानी चल रही है। अफसर चूंकि केंद्रीय सेवा के प्रतिनियुक्ति वाले हैं, इसलिए नियम पहले बताते हैं, वहीं अध्यक्ष चुनावी वक्त का फायदा उठाने में लगे हैं। वर्ग विशेष के होने के कारण मंत्री महोदय को लगता है यही वक्त है चुनाव में फायदा उठा लो, लेकिन उनका कार्यालय ही उनका साथ नहीं दे रहा। कार का मसला हो या छोटे-मोटे बिल पास करवाने हों, अध्यक्ष को सीईओ साहब नियमों की कॉपी दिखाने में तनिक देर नहीं लगाते। अफसर के लकीर के फकीर बने रहने से अध्यक्ष महोदय बेहद परेशान हो गए और उन्होंने इसकी शिकायत विभाग के मंत्री सहित संगठन स्तर पर भी कर दी है। इसके बावजूद चुनाव आयोग के डर से कोई नेता भी खुलकर कुछ नहीं बोल रहे और अफसर और अध्यक्ष की यह लड़ाई अखबारों की सुर्खियों में बनने लग गई है। … खबरची