सर्वसुविधायुक्त नर्मदा परिक्रमा पथ बनाया जाएगा: पीसी शर्मा


नार्मदीय ब्राह्मण समाज का मिलन समारोह सम्पन्न
जबलपुर, 17 फरवरी।
धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री पी.सी. शर्मा ने कहा है कि नर्मदा परिक्रमावासियों के लिये सर्वसुविधायुक्त नर्मदा परिक्रमा पथ बनाया जाएगा। शर्मा ने जबलपुर में नार्मदीय जबलपुर समाज के मिलन समारोह में कहा कि नर्मदा के तटों एवं घाटों की सुरक्षा एवं साफ-सफाई के प्रति राज्य सरकार बेहद संवेदनशील है। समारोह में मंत्री शर्मा की धर्मपत्नी श्रीमती विभा शर्मा भी शामिल हुईं। समारोह के प्रारंभ में पुलवामा हमले में शहीद वीर अश्विनी कुमार काछी सहित सभी शहीदों को मौन श्रद्धांजलि दी गई।
मंत्री शर्मा ने कहा कि नर्मदा नदी से रेत के अवैध उत्खनन को सख्ती से रोका जाएगा। उन्होंने कहा कि जबलपुर में करीब 2 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित होने वाले मां नर्मदा मंदिर और छात्रावास निर्माण के लिए शासन की ओर से भी हरसंभव आर्थिक मदद दी जाएगी।
मंत्री शर्मा ने समारोह में समाज के वरिष्ठ नागरिकों को शाल एवं श्रीफल भेंट कर सम्मानित किया। उन्होंने बाल कलाकारों द्वारा निर्मित रंगोली एवं साज-सज्जा की तारीफ की। इस मौके पर जनसम्पर्क मंत्री शर्मा ने नार्मदीय ब्राह्मण समाज के युवा वेब डेवलपर रूपेश तारे द्वारा निर्मित वेबसाइट का लोकार्पण और निर्माणाधीन नर्मदा मंदिर भवन के तेल चित्र का अनावरण किया।
केन्द्र से कोश्यारी समिति की रिपोर्ट लागू करवाने की पहल करेंगे: जनसम्पर्क मंत्री पी.सी. शर्मा ने कहा है कि केन्द्र सरकार से कोश्यारी समिति की रिपोर्ट को लागू करवाने की पहल की जाएगी। शर्मा सेवानिवृत्त कर्मचारी (1995) राष्ट्रीय समन्वय समिति की पंचानन भवन में आयोजित बैठक को संबोधित कर रहे थे। जनसम्पर्क मंत्री ने बैठक के पूर्व पुलवामा के शहीदों को कैंडिल जलाकर श्रद्धांजलि अर्पित की।
मंत्री शर्मा ने कहा कि वर्तमान केन्द्र सरकार के सांसद रहे कोश्यारी की अध्यक्षता में गठित समिति द्वारा वर्ष 2013 में राज्य सभा के पटल पर रखी गई रिपोर्ट पर आज तक केन्द्र सरकार ने कार्यवाही नहीं की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री से अनुरोध कर केन्द्र सरकार को समिति की रिपोर्ट लागू किये जाने हेतु पत्र भेजा जाएगा। शर्मा ने बताया कि मुख्यमंत्री कमलनाथ पूर्व में बतौर कांग्रेस अध्यक्ष केन्द्र सरकार को इस बारे में पत्र भेज चुके हैं।
बैठक में बताया गया कि कोश्यारी समिति की रिपोर्ट लागू होने पर प्रदेश के साढ़े 3 लाख पेंशनर और 36 लाख कामगारों को लाभ मिल सकेगा। बैठक को कर्मचारी नेता वीरेन्द्र खोंगल, चन्द्रशेखर परसाई, महेश मालवीय और अजय नीलू श्रीवास्तव ने भी संबोधित किया।