जिम्बाब्वे के खिलाफ जीत की लय बरकरार रखने उतरेगा भारत

माउंट मौंगानुई (न्यू जीलैंड), 19 जनवरी। पहले ही क्वॉर्टर फाइनल में जगह बना चुका भारत शुक्रवार को यहां कमजोर मानी जाने वाली जिम्बाब्वे टीम को हराकर आईसीसी अंडर-19 वर्ल्ड कप में जीत की लय बरकरार रखने उतरेगा।
पूर्व चैंपियन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आत्मविश्वास बढ़ाने वाली जीत के बाद भारत ने पपुआ न्यू गिनी को रौंद दिया था और अब टीम के साथ अपने अंतिम लीग मैच में प्रयोग करने का मौका होगा। भारत के लिए लीग चरण में एकमात्र बड़ी चुनौती ऑस्ट्रेलिया की टीम रही जिसे अपने ऑलराउंड प्रदर्शन की बदौलत 100 रन से हराया। भारतीय तेज गेंदबाजों कमलेश नागरकोटी और शिवम मावी ने अब तक अपने प्रदर्शन से प्रभावित किया है और यह अब देखना होगा कि पूर्व दिग्गज खिलाड़ी और कोच राहुल द्रविड़ उन्हें फिर मैदान पर उतारते हैं या क्वॉर्टर फाइनल के लिए तरोताजा रखते हैं। चोटिल इशान पोरेल के कवर के तौर पर शामिल विदर्भ के गेंदबाज आदित्य ठाकरे को मौका मिल सकता है। इशान की ऐड़ी में चोट है और पपुना न्यू गिनी के खिलाफ अर्शदीप सिंह ने उनकी जगह ली। भारतीय गेंदबाजी इकाई काफी मजबूत लग रही है जिसमें बायें हाथ के स्पिनर अनुकूल रॉय तेज गेंदबाजों का साथ निभा रहे हैं। कप्तान पृथ्वी शॉ की कप्तानी में भारत का शीर्ष बल्लेबाजी क्रम शानदार फॉर्म में है और अब तक मुश्किल हालात में उनकी परीक्षा नहीं हो पाई है। जिम्बाब्वे के गेंदबाजी आक्रमण के खिलाफ भारतीय बल्लेबाजों के आसानी से रन जुटाने की उम्मीद है जिसके खिलाफ ऑस्ट्रेलिया ने बुधवार को 7 विकेट की आसान जीत दर्ज की। जिम्बाब्वे अब यदि उलटफेर भरी जीत दर्ज नहीं करता है तो ग्रुप-बी से भारत और ऑस्ट्रेलिया का क्वॉर्टर फाइनल में जगह बनाना लगभग तय है। अंडर-19 में भारत ने अब तक जिम्बाब्वे के खिलाफ 4 मैचों में से एक भी नहीं गंवाया है। दोनों टीमों के बीच पहला मैच 2005 में एफ्रो-एशिया अंडर 19 कप के दौरान खेला गया था।