तपेदिक के खिलाफ छेड़ें जंग: मोदी

नई दिल्ली, 22 जनवरी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टीबी के खिलाफ जंग छेडऩे का आह्वान किया है। प्रधानमंत्री मोदी ने सभी मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर कहा है कि वो टीबी के खिलाफ अभियान छेड़ें। साथ ही उन्होने हर तिमाही में रिवाइज्ड नेशनल ट्यूबरकुलोसिस कंट्रोल प्रोग्राम (आरएनटीसीपी) की प्रगति की समीक्षा करने को कहा है। इसके साथ ही उन्होने प्रदर्शन के प्रमुख संकेतकों पर पैनी नजर रखने को कहा गया है। खासकर मामला दर्ज (निजी क्षेत्र सहित) होने, इलाज में सफलता की दर और सक्रिय मामलों की खोज आदि के आधार पर अध्ययन करने के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि तपेदिक सभी संक्रामक रोगों में सबसे अधिक जानलेवा है। हरेक साल करीब 29 लाख नए मामले सामने आते हैं। करीब 4.20 लाख लोग (अधिकांश गरीब) हर साल तपेदिक से मरते हैं। इससे लाखों बच्चे अनाथ हो जाते हैं। भारत में तपेदिक के कारण हर साल 20 हजार करोड़ रुपए का आर्थिक नुकसान होता है। प्रधानमंत्री ने इस पत्र में लिखा है कि सरकार वर्ष 2015 तक तपेदिक को पूरी तरह से खत्म कर लेना चाहती थी। लेकिन तभी इस बीमारी ने नया और घातक रूप ले लिया।