भारत के हिस्से का एक बूंद पानी भी पाकिस्तान नहीं जाने दूंगा : मोदी

हमारी सरकार को करतारपुर साहिब की दूरी समाप्त करने का सौभाग्य मिला
सिरसा/रेवाड़ी, 19 अक्टूबर।
ऐलनाबाद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पूर्व की सरकारों के समय भारत के हिस्से का पानी पाकिस्तान जाता रहा। तब की सरकारों ने इस पानी को रोकने के लिए एक बांध बनाने का भी नहीं सोचा। यहां का किसान तरसता रहा, यहां के खेत सूखते रहे और पाकिस्तान हरा-भरा रहे, ये कैसे हो सकता है। मैं भारत के हिस्से का एक बूंद पानी भी पाकिस्तान नहीं जाने दूंगा। यह भारत के किसानों के हिस्से का पानी है, इसका उपयोग भारतीयों की जरूरत पूरी करने के लिए किया जाएगा।
पीएम मोदी बोले- भाजपा की एनडीए की सरकार को एक और सौभाग्य मिला है। हमारे गुरु के पवित्र स्थान, करतारपुर साहिब और हम सभी के बीच की दूरी अब समाप्त होने वाली है। कांग्रेस और उसके कल्चर से जुड़े दलों ने हिंदुस्तानियों की आस्था, परंपरा और संस्कृति को कभी मान नहीं दिया।
पहले दिल्ली में सोई हुई कांग्रेस सरकार के कारण कश्मीर के हालात बिगड़ते रहे। कश्मीर जिस परंपरा के लिए जाना जाता है, उस सूफी सोच को दफना दिया गया। हमने 370 खत्म करके उस साजिश को समाप्त कर दिया है। आपने मुझे परमानेंट सरकार दी, इसलिए हमने कश्मीर से टैंपरेरी कानून 370 को खत्म कर दिया। 70 साल तक कश्मीर के लोगों को आपने टेम्परेरी साइकोलॉजी द्वारा परमानेंट की ओर जाने के लिए अलगाववाद की ओर जाने के लिए रास्ता दिखाया था। इसलिए मैंने टेम्परेरी खत्म कर दिया है। जब आपने मुझे दोबारा पांच साल के लिए परमानेंट बना दिया तो मैं टेम्परेरी क्यों चलने दूं।
आने वाले पांच वर्षों में किसानों को पानी मिले, माताओं-बहनों को घर तक पानी मिले, इसके लिए साढ़े तीन लाख करोड़ रुपए खर्च किया जाएगा। 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने के संकल्प को सिद्ध करने के लिए हम निकले हैं। किसानों के खातों में करोड़ों रुपए जमा हो चुके हैं। फसल बीमा योजना से करोड़ों की मदद की गई। पूर्ववर्ती सरकारों पर आरोप लगाते हुए पीएम ने कहा कि सेना के जवानों को ढंग के कपड़े-जूते तक नहीं मिलते थे। बुलेटप्रूफ जैकेट और आधुनिक राइफल तक की कमी थी। आज आधुनिक पनडुब्बियों से लेकर राफेल जैसे आधुनिक लड़ाकू विमान और आधुनिक हेलिकॉप्टर तक हमारी सेना का हिस्सा बन चुके हैं। उन्होंने कहा कि सरकार में आने के बाद उन्होंने सबसे पहले सेनाओं के सशक्तीकरण पर काम करना शुरु किया।
युवाओं को घर के पास ही रोजगार मिले, इसके लिए हम प्रतिबद्ध हैं। पहले हरियाणा में बच्चों को बिना लेती-देती नौकरी नहीं मिलती, बिना सिफारिश के नौकरी नहीं मिलती। हरियाणा में यही खेल चलता था। गरीब बेटे बेटियों पर अन्याय होता था। ये खर्ची और पर्ची को हरियाणा में हमने हमेशा के लिए ताला लगा दिया।
पहले हरियाणा में बिना खर्ची और पर्ची के नौकरी नहीं मिलती थी। युवाओं को नेताओं के चक्कर काटने पड़ते थे। हमारी सरकार ने इस खर्ची और पर्ची का दौर खत्म कर दिया है। मनोहर सरकार ने कई युवाओं को रोजगार देने का काम किया है। कांग्रेस और इनेलो की पड़ी फूट पर उन्होंने कहा कि इन लोगों में सिद्धांतों की लड़ाई नहीं है। मलाई काटने की लड़ाई है। यह मलाई ऐसी है, इसके कारण एक ही परिवार के लोग आमने सामने आए हैं। इन लूटने वालों को घर भेजो। यह विरासत के नाम पर जनता को लूटते हैं। कांग्रेस ने हरियाणा को अपना चारागाह समझा है। कांग्रेस के दामाद को जमीन चाहिए हो तो वह भी हरियाणा आते हैं।