जुलानिया को ओएसडी बनाने से एक नौकरशाह बेचैन…

मध्यप्रदेश में आज अतिरिक्त मुख्य सचिव 1985 बैच के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी राधेश्याम जुलानिया का वल्लभ भवन में अचानक तबादला कर दिया गया और माध्यमिक शिक्षा मंडल के अध्यक्ष पद का अतिरिक्त प्रभार उनसे कई साल जूनियर प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी को सौंपा गया है। आज के इस आनन-फानन में जारी हुए आदेश का मतलब मंत्रालय में बैठे एक अतिरिक्त मुख्य सचिव स्तर के नौकरशाह अलग ही अंदाज में प्रस्तुत कर रहे हैं। सूत्रों के अनुसार उपरोक्त नौकरशाह ने कहा है कि यह बात समझ में नहीं आती कि जुलानिया का कद बढ़ाया गया या घटाया गया। इसके आगे वे कहते हैं कि इस तरह के ओएसडी बनाने का मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकारों की परंपरा रही है, जैसे कभी वीके जाजोरिया साहब हुआ करते थे। उक्त नौकरशाह इतने बेचैन हैं कि यदि जुलानिया साहब ने झपट्टा मारा तो किसी न किसी अतिरिक्त मुख्य सचिव का बड़ा विभाग उन्हें दिया जाएगा। उक्त नौकरशाह यह भी कहते हैं कि संघ वाले बड़े साहब से नाराज है, दूसरे बड़े साहब को ढूंढ़ रहे हैं। यदि इस रणनीति के तहत वल्लभ भवन में जुलानिया आए हैं तो फिर यह खोज का विषय है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा है कि जुलानिया को नीचा दिखाने का अनुक्रम शुरू हो गया है। उल्लेखनीय है कि उपरोक्त वाक्या अतिरिक्त मुख्य सचिव जेएन कंसोटिया से संबंधित नहीं है…। -खबरची