अवैध रेत के परिवहन को लेकर गोलीबारी, एक की मौत, एक घायल, पॉवरमेक के कर्मचारियों पर हत्या का मामला दर्ज

भिंड: जिले में एक बार फिर रेत के अवैध परिवहन को लेकर हुई फायरिंग में एक युवक की मौत हो गई जबकि एक युवक गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने रेत उत्खनन में लगी कंपनी पावरमेक प्रोजेक्ट्स लिमिटेड के एक कर्मचारी के साथ ही उसके तीन नामजद किराए के कर्मचारियों एवं 7 अज्ञात लोगों पर हत्या एवं हत्या के प्रयास सहित तमाम धाराओं में मामला दर्ज कर उनकी तलाश प्रारंभ कर दी है।

दरअसल भिंड जिले में सिंध नदी से रेत उत्खनन का ठेका हैदराबाद की पावर मेक प्रोजेक्ट्स लिमिटेड कंपनी को कोटा कृष्णा प्रवीण के नाम से दिया गया है। लेकिन कंपनी द्वारा तमाम नियमों को ताक पर रखकर पनडुब्बियों के जरिए नदी के बीच से लगातार अवैध उत्खनन करवाया जा रहा है। ऐसे में रेत माफिया भी अवैध परिवहन करने से बाज नहीं आ रहे। बड़ी संख्या में अवैध रूप से ट्रैक्टर ट्रॉली एवं ट्रकों के जरिए माफिया द्वारा रेत का परिवहन किए जाने की सूचनाएं मिल रही हैं। इसको रोकने के लिए कंपनी द्वारा कई भाड़े के बंदूकधारी गुंडों को किराए पर भी रखा गया है। जानकारी के मुताबिक गुरुवार देर रात को कुछ लोगों द्वारा अमायन क्षेत्र स्थित रेत खदान से ट्रैक्टर ट्रॉली भर कर बिना रॉयल्टी चुकाये ही गांव के रास्ते उसे निकालने की कोशिश की जा रही थी। जैसे ही पॉवरमेक कंपनी के कर्मचारियों को इसकी सूचना लगी वैसे ही पॉवरमेक कंपनी के कर्मचारी विनोद मद्रासी द्वारा अन्य कर्मचारियों को साथ लेकर ट्रैक्टर ट्रॉली को रोकने की कोशिश की। जिस पर दोनों पक्षों में झगड़ा हुआ और देखते ही देखते गोलीबारी होने लगी। पावर मेक कंपनी के कर्मचारियों द्वारा टारगेट कर ट्रैक्टर ट्रॉली के ऊपर फायरिंग की गई जिसमें एक ट्रैक्टर मालिक 30 वर्षीय रॉकी गुर्जर की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि समरथ सिंह तोमर नामक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। जिसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मामले की सूचना लगते ही अमायन थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई। वहीं घटना की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक भी मौके पर पहुंचे। घायल युवक की शिकायत पर पुलिस ने पावर मेक कंपनी के कर्मचारी विनोद मद्रासी के साथ ही तीन अन्य भाड़े के कर्मचारियों जिनमें बलदेव राजपूत, प्रदीप गुर्जर एवं शैलेंद्र राजपूत के नाम शामिल हैं इनके साथ ही सात अन्य लोगों पर धारा 302, 307, 147, 148 एवं 149 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। आरोपी फिलहाल फरार बताए जा रहे हैं, पुलिस उनकी तलाश में जुट गई है।

जिले में अवैध उत्खनन को लेकर बीते रोज ही विधानसभा में हुआ था जमकर हंगामा
इस समय मध्य प्रदेश विधानसभा का बजट सत्र चल रहा है। इसी दौरान भोपाल से कांग्रेस के विधायक पूर्व मंत्री आरिफ अकील ने भिंड जिले में पावर में कंपनी द्वारा किए जा रहे अवैध रेत उत्खनन को लेकर सवाल किए। जिसका जवाब मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह दे रहे थे। क्योंकि मामला भिंड जिले में अवैध उत्खनन को लेकर उठाया गया था तो भिंड विधायक संजीव सिंह कुशवाह ने भी इस पर सवाल जवाब कर दिए। संजीव सिंह कुशवाह ने कहा कि ट्रैक्टर ट्रॉलियों के ऊपर कार्रवाई करके आप क्या जताना चाहते हैं। पावर में कंपनी द्वारा नदी के अंदर बड़ी संख्या में पनडुब्बियों को डालकर अवैध रूप से रेत निकाला जा रहा है। इन पनडुब्बियों को जब पकड़ा जाता है तो आखिर उनको चलाने वाले लोग क्यों बच जाते हैं। संजीव सिंह कुशवाह ने कहा कि पनडुब्बियां अपने आप तो चलती नहीं होंगी, उनके पीछे जो लोग हैं उन पर कोई कार्यवाही क्यों नहीं की जाती है। इसका जवाब मंत्री ब्रजेन्द्र प्रताप सिंह नहीं दे पाए। प्रश्न अवैध रेत के उत्खनन और परिवहन को लेकर था तो इसको लेकर बीते साल नदी बचाओ सत्याग्रह पदयात्रा निकालने वाले लहार विधायक पूर्व मंत्री डॉक्टर गोविंद सिंह भी अवैध रेत उत्खनन को लेकर सरकार के खिलाफ आक्रामक हो गए और उन्होंने भी सरकार पर इस को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए इसे रोके जाने की मांग की।