सोना ग्राहकों की फिर जागी किस्मत, 12 हजार रुपये गिरे दाम, खरीदारी को उमड़ी भीड़

नई दिल्लीः आम बजट में जब से मोदी सरकार ने सोना-चांदी के आयात पर शुल्क में कमी की है, तभी से सर्राफा बाजार में ज्वेलरी के दाम गिरते जा रहे हैं। सोना-चांदी के लुढ़कते दाम के बीच ग्राहकों में भी खुशी का माहौल देखने को मिल रहा है। महंगाई के कारण सुनसान पड़े सर्राफा बाजारों में ग्राहकों की फिर से चहल-पहल दिखाई दे रही है। शादी ब्याह वालों के लिए खरीदारी का इससे अच्छा मौका कोई नहीं हो सकता है, क्योंकि सोना-चांदी के दाम में शुक्रवार को भी गिरावट देखने को मिली है।

दिल्ली सर्राफा बाजार में 291 रुपये गिरकर 44,059 रुपये प्रति दस ग्राम रह गया। इससे पिछले सत्र में सोना 44,350 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ था। चांदी भी 1,096 रुपये लुढ़ककर 65,958 रुपये प्रति किलोग्राम रह गई। चांदी का पिछला बंद भाव 67,054 रुपये प्रति किलोग्राम था। अंतरराष्ट्रीय बजार में सोना गिरावट के साथ 1,707 डालर प्रति औंस और चांदी भी नरम हो 25.67 डालर प्रति औंस पर थी।

अभी और गिरेंगे सोना के दाम?

सर्राफा बाजार में सोना 44,059 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर आ चुका है। अगस्त में सोने ने 2010 डॉलर प्रति औंस का उच्चतम स्तर छुआ था, जिससे अब तक 15 फीसद की गिरावट देखने को मिली है। एनालिस्ट मान रहे हैं कि अभी सोने में गिरावट और आएगी। सोना करीब 38,800 रुपये प्रति 10 ग्राम के करीब भी पहुंच सकता है।

– इतने हजार रुपये सस्ता हो गया सोना

सोने के दाम में ऑल टाइम हाई से 12 हजार रुपये से भी अधिक की गिरावट देखने को मिली है। 2020 में सोना 28 फीसद तक चढ़ा था और अब 12 हजार रुपये से भी अधिक गिर चुका है। सिर्फ इसी साल में भी सोने में भारी गिरावट देखने को मिली है। इतना ही नहीं, चांदी में भी 10 हजार रुपये तक की गिरावट देखने को मिली है। अगस्त में सोना 56,310 रुपये का ऑल टाइम हाई छुआ था, जो अब 44,059 रुपये प्रति 10 ग्राम के स्तर पर है।

वहीं, अगर बात सोने की करें तो पिछले साल सोने ने 28 फीसद का रिटर्न दिया है। उससे पिछले साल भी सोने का रिटर्न करीब 25 फीसदी रहा था। अगर आप लॉन्ग टर्म के लिए निवेश कर रहे हैं तो सोना अभी भी निवेश के लिए बेहद सुरक्षित और अच्छा विकल्प है, जिसमें शानदार रिटर्न मिलता है।