शिप्रा नदी में हुए धमाके अभी भी रहस्य बने हुए हैं, ONGC की टीम जाँच में जुटी

मध्यप्रदेश की धार्मिक नगरी उज्जैन में पुण्यसलिला क्षिप्रा नदी में पिछले दिनों हुए धमाकों का रहस्य अभी भी बना हुआ है। प्रकरण की जांच के लिए देहरादून स्थित तेल और प्राकृतिक गैस निगम का विशेषज्ञ दल आया हुआ है, जिसने जांच के लिए पानी, मिट्टी आदि के नमूने इकट्ठा किए हैं। मामले की प्रारंभिक जाँच में नदी से गैस उत्सर्जन का माकूल सबूत नहीं पाया गया है। पिछले दिनों क्षिप्रा नदी में पहली बार धमाका हुआ था। ग्रामीणों ने स्थानीय प्रशासन को इसकी सूचना दी थी। अधिकारियों ने मौके पर लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी के कर्मचारियों को तैनात कर दिया था। पांच मार्च की शाम को एक बार फिर धमाके हुए। ग्रामीणों ने प्रमाण के तौर पर इसका वीडियो भी बना लिया था। उसके बाद कुछ धमाके और हुए थे उसके बाद संभावना जताई जा रही थी कि इन धमाकों की वजह मिथेन अथवा ईथेन गैस हो सकती है।
जिला कलेक्टर आशीष सिंह ने इस मामले की उच्चस्तरीय जाँच के लिए जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया और तेल एवं प्राकृतिक गैस आयोग को सूचित किया था।\