जिनके घर शीशे के होते हैं, वह दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते: ज्योतिरादित्य

सांसद सिंधिया ने संसद में कांग्रेस को धोया, कहा-
मुंह मत खुलवाओ, 100 करोड़ की वसूली हो रही थी

खास खबर
सुरेश तिवारी

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस पर एक बार फिर जमकर हमला बोला है। दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया आज राज्यसभा में वित्तीय बिल पर अपनी बात रख रहे थे, तभी कांग्रेस के कई सांसद पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर टीका-टिप्पणी करने लगे। तभी सिंधिया ने उनको पेट्रोल-डीजल के पीछे की गणित भी समझा दिया और मुंह न खुलवाने की हिदायद भी दे दी। सिंधिया ने कहा कि मैं बस इतना ही कहना चाहता हूं कि जिनके घर शीशे के होते हैं, वह दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते। इस बीच कांग्रेस के किसी नेता ने टोक दिया जिस पर सिंधिया ने भी पलटवार करते हुए उनको महाराष्ट्र की याद दिला दी। सिंधिया ने कहा कि मुंह मत खुलवाओ, 100 करोड़ रुपए एक गृह मंत्री के द्वारा लिया जा रहा था। सिंधिया ने कहा कि आप 15 लाख की बात करते हो, आप पहले 100 करोड़ का हिसाब दो। मेरा मुंह मत खुलवाना, नहीं तो मैं शुरू हो जाऊंगा।
ज्योदितारादित्य सिंधिया ने कहा कि यह बात सही है कि पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़े हैं। यह भी सही है कि जो बढ़ोतरी हुई है उसका बंटवारा क्या है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर खर्चा निकालने के बाद 40 फीसदी हिस्सा राज्य और 60 फीसदी हिस्सा केंद्र को मिलता है। 60 फीसदी में से 42 फीसदी राज्य को जाता है। राज्य को उस राशि का 64 फीसदी मिलता है और 36 फीसदी केंद्र के पास रहता है। सिंधिया ने कहा कि महाराष्ट्र में पेट्रोल-डीजल के सबसे ज्यादा दाम हैं। यहां आप सरकार को दुहाई दे रहे हैं, लेकिन वहां कोई कदम नहीं उठाते हैं। सिंधिया ने कहा कि मैं बस इतना ही कहना चाहता हूं कि जिनके घर शीशे के होते हैं, वह दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते।

खास खबर
ञ्चसुरेश तिवारी
नई दिल्ली, 24 मार्च। भारतीय जनता पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस पर एक बार फिर जमकर हमला बोला है। दरअसल, ज्योतिरादित्य सिंधिया आज राज्यसभा में वित्तीय बिल पर अपनी बात रख रहे थे, तभी कांग्रेस के कई सांसद पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर टीका-टिप्पणी करने लगे। तभी सिंधिया ने उनको पेट्रोल-डीजल के पीछे की गणित भी समझा दिया और मुंह न खुलवाने की हिदायद भी दे दी। सिंधिया ने कहा कि मैं बस इतना ही कहना चाहता हूं कि जिनके घर शीशे के होते हैं, वह दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते। इस बीच कांग्रेस के किसी नेता ने टोक दिया जिस पर सिंधिया ने भी पलटवार करते हुए उनको महाराष्ट्र की याद दिला दी। सिंधिया ने कहा कि मुंह मत खुलवाओ, 100 करोड़ रुपए एक गृह मंत्री के द्वारा लिया जा रहा था। सिंधिया ने कहा कि आप 15 लाख की बात करते हो, आप पहले 100 करोड़ का हिसाब दो। मेरा मुंह मत खुलवाना, नहीं तो मैं शुरू हो जाऊंगा।
ज्योदितारादित्य सिंधिया ने कहा कि यह बात सही है कि पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़े हैं। यह भी सही है कि जो बढ़ोतरी हुई है उसका बंटवारा क्या है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर खर्चा निकालने के बाद 40 फीसदी हिस्सा राज्य और 60 फीसदी हिस्सा केंद्र को मिलता है। 60 फीसदी में से 42 फीसदी राज्य को जाता है। राज्य को उस राशि का 64 फीसदी मिलता है और 36 फीसदी केंद्र के पास रहता है। सिंधिया ने कहा कि महाराष्ट्र में पेट्रोल-डीजल के सबसे ज्यादा दाम हैं। यहां आप सरकार को दुहाई दे रहे हैं, लेकिन वहां कोई कदम नहीं उठाते हैं। सिंधिया ने कहा कि मैं बस इतना ही कहना चाहता हूं कि जिनके घर शीशे के होते हैं, वह दूसरों पर पत्थर नहीं फेंकते।