भोपाल में नजर लग जाती है इसलिए सीहोर में खरीद ली करोड़ों की जमीनें…

मध्यप्रदेश में नौकरशाही और भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारियों में एक बड़ा कट थ्रोट है, वह यह कि एक दूसरे के बारे में जानकारी परोसने में अब सभी मेराथन पर हैं। इसी श्रृंखला में सूत्रों के अनुसार जहां मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस ने बड़े नौकरशाहों की रिटायर होने के पहले और बाद मिलाकर कुल 5 लोगों के काम लगाने में अपने सहपाठियों की तथ्य परख सूचना को आधार बनाया है वहीं अब कुछ भारतीय पुलिस सेवा के वे अधिकारी जो सत्ता की मलाई से दूर हैं, सत्ताधारी पुलिस राज पुरूषों की जानकारी मीडिया में परोस रहे है। एक युवा आ.पी.एस. अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा कि भारतीय पुलिस सेवा के 1995 बैच के एक वरिष्ठ अधिकारी ने करोड़ों की संपत्ति बनाने का सपना भोपाल की बजाये सीहोर जिले में कई वर्षों पहले कौडिय़ों में जमीन खरीद कर देखा अब उनका सपना पूरा भी हो रहा है साहब की 24-25 एकड़ जमीन करोड़ों में पहुंच गई है। उक्त युवा ने कहा ये साहब दूर दृष्टि का टेलेंट रखते हैं, कहते हैं भोपाल में नजर लग जाती है इसलिए सीहोर पहुंच गये। उल्लेखनीय उपरोक्त वाक्या 1995 के आय.पी.एस. अधिकारी जयदीप सिंह और महान भारत सागर से संबंधित नहीं है। -खबरची