मनी लॉन्ड्रिंग केस : ED ने मेदांता अस्पताल के MD डॉ. नरेश त्रेहन के खिलाफ केस दर्ज किया

मनी लॉन्ड्रिंग केस : ED ने मेदांता अस्पताल के MD डॉ. नरेश त्रेहन के खिलाफ केस दर्ज किया

गुरुग्राम स्थित मेदांता मेडिसिटी अस्पताल के प्रबंध निदेशक और मशहूर कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. नरेश त्रेहन की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने डॉ. नरेश त्रेहन के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले में केस दर्ज किया है। ED ने डॉ. त्रेहन और 15 अन्य लोगों के खिलाफ मेदांता अस्पताल के लिए जमीन आवंटन के संबंध में पीएमएलए के तहत प्रवर्तन मामले की सूचना रिपोर्ट दर्ज की है।

न्यूज एजेंसी एएनआई के अनुसार, अधिकारियों के बताया है कि आर्थिक अपराध पर नजर रखने वाली एजेंसी ने मामले के संबंध में पीएमएलए के तहत डॉ. त्रेहन और 15 अन्य के खिलाफ प्रवर्तन मामले की सूचना रिपोर्ट दर्ज की है।

ईडी के एक अधिकारी ने बुधवार को बताया कि गुरुग्राम पुलिस द्वारा दर्ज एफआईआर के आधार पर यह मामला दर्ज किया गया था। शनिवार को गुरुग्राम पुलिस ने केस के सिलसिले में डॉ. नरेश त्रेहन और अन्य के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग, भ्रष्टाचार, आपराधिक साजिश, जालसाजी और विश्वासघात के आपराधिक मुकदमे दर्ज किए।

दरअसल, मालिबू टाउन निवासी रमन शर्मा की शिकायत पर अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश अश्विनी कुमार के आदेश पर गुरुग्राम सदर पुलिस स्टेशन में एफआईआर दर्ज की गई थी।

यह एफआईआर पीएमएलए, भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम और भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की कई प्रासंगिक धाराओं के तहत दर्ज की गई थी। 

डॉ. नरेश त्रेहन से एएनआई ने कहा, यह वही मामला है जिसे गुरुग्राम पुलिस ने ईडी दिल्ली को सौंपा है। शिकायतकर्ता रमन शर्मा एक जाना-पहचाना रंगदारी वसूली करने वाला व्यक्ति है। उसके द्वारा की गई शिकायत उत्पीड़न के अलावा और कुछ नहीं है, उसने इस शिकायत को दर्ज करने के लिए ऐसा समय चुना है, जब हम एक वैश्विक महामारी से जूझ रहे हैं।