5वीं क्लास की बच्ची का लोहे की स्टिक से तोड़ दिया था हाथ।

छात्रा का हाथ तोड़ने वाला हेडमास्टर सस्पेंड:क्लास की खिड़की से हेलिकॉप्टर देख रही थी 5वीं की स्टूडेंट, लोहे की स्टिक से पीटा था

5वीं क्लास की बच्ची का लोहे की स्टिक से तोड़ दिया था हाथ। - Dainik Bhaskar

छत्तीसगढ़ के गरियाबंद में 5वीं क्लास की छात्रा को लोहे की स्टिक से पीटने वाले हेड मास्टर को सस्पेंड कर दिया गया है। छात्रा की गलती सिर्फ इतनी थी कि वह पढ़ाई के दौरान क्लास की खिड़की से हेलिकॉप्टर देख रही थी। हेडमास्टर की पिटाई से छात्रा का हाथ टूट गया था। घटना के बाद छात्रा रोते हुए घर पहुंची और परिजनों को बताया। इसके बाद परिजन उसे लेकर सामुदायिक केंद्र पहुंचे, वहां से बच्ची को हायर सेंटर रेफर कर दिया गया।

जिला शिक्षा अधिकारी की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि जांच प्रतिवेदन के आधार पर गरियाबंद जिले के छुरा ब्लॉक में कनसिंघी प्राथमिक स्कूल में प्रधान पाठक टिकेश्वर प्रसाद शर्मा ने 5वीं क्लास की छात्रा को मामूली बात पर लोहे की स्टिक से मारपीट कर हाथ में चोट पहुंचाई। यह कृत्य सिविल सेवा आचरण से विपरीत है। इस कृत्य के चलते प्रधान पाठक टिकेश्वर प्रसाद शर्मा को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाता है।

प्रधान पाठक को निलंबित किया गया।

प्रधान पाठक को निलंबित किया गया।

घटना के 4 दिन बाद DEO ने दिए जांच के आदेश
DEO (जिला शिक्षा अधिकारी) करमन खटकर ने घटना सामने आने के 4 दिन बाद मामले की जांच के आदेश दिए थे। इसके लिए टीम बनाई गई थी। उन्होंने बताया कि BEO ने अपना जांच प्रतिवेदन सौंपा था। इसके आधार पर प्रधान पाठक को दोषी पाया गया है। इसके चलते उनके निलंबत की कार्रवाई की गई है। इसके बाद उन्हें शिक्षा विभाग से अटैच किया गया है। आगे की कार्रवाई और की जाएगी।

कोहनी के पास से बच्ची के हाथ में हुआ फ्रैक्चर
छुट्‌टी के बाद छात्रा रोते हुए घर पहुंची थी और परिजनों को बताया था। साधारण चोट समझ कर उन्होंने बच्ची का घर में ही देशी उपचार किया, लेकिन फायदा होते नहीं देख उसे सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए, जहां उसकी हालत देख जिला अस्पताल भेज दिया गया। वहां जांच के दौरान पता चला कि कोहनी के पास से बच्ची का हाथ फ्रैक्चर हो गया था। फिलहाल बच्ची की कोहनी में डॉक्टरों ने क्रैप बैंडेज लगा दिया है।