विद्यार्थीं राष्ट्र निर्माण में अहम भूमिका निभाएँ- राज्यपाल श्री पटेल

नई शिक्षा नीति में विज्ञान, प्रौद्योगिकी, रोजगार और नैतिक मूल्यों का समावेश
दीक्षान्त समारोह में राज्यपाल श्री पटेल ने मेधावी छात्रों को प्रदान किये स्वर्ण-पदक

भोपाल : राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल ने कहा है कि राष्ट्र निर्माण में विद्यार्थियों की अहम भूमिका है। प्राध्यापकों का दायित्व है कि वे विद्यार्थियों में सेवा और संस्कार रोपित कर उन्हें आदर्श छात्र एवं नागरिक बनाने का प्रयास करें। राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि आदर्श नागरिक बनाने में शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। नई शिक्षा नीति में विज्ञान, प्रौद्योगिकी, रोजगार के साथ ही नैतिक मूल्यों का समावेश किया गया है। विश्वविद्यालय, शिक्षा के साथ सामाजिक दायित्वों का निर्वहन करें।

राज्यपाल श्री पटेल शहडोल में पं. शंभूनाथ शुक्ल विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षान्त समारोह को सम्बोधित कर रहे थें। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों में अध्यनरत छात्र-छात्राएँ सत्य के मार्ग पर चलकर और धर्म का पालन कर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा ग्रहण कर अपने ज्ञान को शोध और अनुसंधान में लगाएँ। विद्यार्थियों के ज्ञान से उनका गाँव, प्रदेश और देश का नाम रोशन हो, विद्यार्थी ऐसा कोई कार्य न करें जिससे उनकी मातृभूमि को लांछन लगें। राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि विश्वविद्यालय में प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को पदक सम्मान मिलने के बाद उनकी सामाजिक एवं राष्ट्र के प्रति जवाबदारी और बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि मुझे आशा ही नहीं विश्वास है कि इस विश्वविद्यालय से उत्तीर्ण छात्र धन अर्जित करेंगे तथा अपने ज्ञान का उपयोग समाज हित में करेंगे।

राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि जनजातीय अंचलों में सिकल सेल की बीमारी सभी के सामने एक चुनौती है। उन्होंने कहा कि सिकल सेल के प्रति जागरूकता पैदा करने और इसके नियंत्रण में विश्वविद्यालयों की अहम भूमिका होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बीमारी के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए विश्वविद्यालयों के प्राध्यापकों को भी सहभागिता निभानी चाहिए। सभी विश्वविद्यालय 5-5 गाँव गोद लेकर सिकल सेल बीमारी के प्रति लोगों को जागरूक करें और बीमारी से बचाव के लिए निरंतर प्रयास करें। यह वंशानुगत रोग है, इसके निदान के लिए सबको मिलकर प्रयास करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि सिकल सेल की जाँच वृहद स्तर पर होनी चाहिए, जिससे रोग के बारे में सभी को जानकारी हो और इसका निदान भी संभव हो सकें।

शहडोल जिले के प्रभारी एवं पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण (स्वतंत्र प्रभार), विमुक्त, घुमक्कड़ एवं अर्द्ध घुमक्कड़, जनजाति कल्याण, पंचायत एवं ग्रामीण विकास राज्य मंत्री श्री रामखेलावन पटेल ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने जनजातीय अंचल शहडोल संभाग के लिए सब कुछ किया है, इसमें विश्वविद्यालय, मेडिकल कॉलेज और इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना प्रमुख है। उन्होंने कहा कि आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश के लिए हर स्तर पर नागरिकों को प्रयास करना होगा। राज्य मंत्री श्री पटेल ने विद्यार्थियों को दीक्षान्त समारोह में स्वर्ण पदक मिलने पर शुभकामनाएँ भी दी।

कुलपति साँची विश्वविद्यालय प्रोफेसर नीरजा अरूण गुप्ता, कुलपति पं. शंभूनाथ शुक्ल विश्वविद्यालय प्रोफेसर डॉ. मुकेश तिवारी ने भी सम्बोधित किया। पं. शंभूनाथ शुक्ल विश्वविद्यालय के प्रथम दीक्षान्त समारोह में राज्यपाल श्री पटेल ने 30 प्रतिभावान छात्रों को पदक और 2222 विद्यार्थियों को उपाधियाँ वितरित की।

विधायक सर्वश्री जयसिंह मरावी, श्रीमती मनीषा सिंह और श्री शरद कोल सहित जन-प्रतिनिधि, विश्वविद्यालय के प्राध्यापक और छात्र-छात्राएँ उपस्थित थे।

समाज, प्रदेश और देश के विकास में सभी नागरिक समन्वित प्रयास करें-राज्यपाल श्री पटेल

देश सर्वोपरि है, देश के विकास में प्रत्येक नागरिक को सर्वोत्तम प्रयास करना चाहिए, जिससे आत्म-निर्भर भारत, स्वावलम्बी भारत की छवि पूरे विश्व में निखर सके। राज्यपाल श्री मंगुभाई पटेल कन्या छात्रावास शहडोल परिसर में कन्याओं से संवाद कर रहे थे। जिला प्रभारी मंत्री श्री रामखेलावन पटेल, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक शहडोल जोन श्री डी.सी. सागर, अध्यक्ष नगर पालिका उर्मिला कटारे, कलेक्टर श्रीमती वंदना वैद्य और पुलिस अधीक्षक श्री अवधेश कुमार गोस्वामी उपस्थित रहे।

राज्यपाल श्री पटेल ने छात्राओं से राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और राष्ट्रपिता के नाम पूछे, जिसका छात्राओं ने जवाब दिया। राज्यपाल श्री पटेल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने “सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास” का नारा दिया है। उन्होंने कहा कि यहाँ आकर बहुत अच्छा लगा है। यहाँ एक साथ 5 छात्रावास में 300 छात्राएँ शिक्षा प्राप्त कर रहीं हैं। सबके सहयोग से देश प्रगति पथ पर बढ़ रहा है। जब प्रधानमंत्री श्री मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तब उन्होंने “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” का नारा दिया था। उन्होंने बनारस में बाबा विश्वनाथ मंदिर के भव्य गलियारा का लोकार्पण किया, जिसमें हजारों लोग एक साथ चल सकते हैं। जनजातीय कन्या छात्रावास परिसर शहडोल में राज्यपाल श्री पटेल ने रूद्राक्ष का पौधा रोपा। उपस्थित अन्य अतिथियों ने भी आम, कटहल, जामुन आदि पौधों का रोपण किया।