भोपाल हाट में 11 राज्यों के करीब 100 कलाकारों ने प्रदर्शित किए उत्पाद

नेशनल हैण्डलूम एक्सपो, 2021-22
9 जनवरी तक आयोजित किया गया है नेशनल हैंडलूम एक्सपो
विशेष संवाददाता
भोपाल, 1 जनवरी।
कोई कारीगर अपने साथ सूट लेकर आया है तो कोई अपने साथ जैकेट और अन्य आइटम। यह नजारा है भोपाल हाट का। जहां इन दिनों 9 जनवरी तक नेशनल हैंडलूम का आयोजन किया गया है। यह एक्सपो संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम और विकास आयुक्त (हाथकरघा) वस्त्र मंत्रालय भारत सरकार के संयुक्त तत्वाधान में आयोजित किया गया है। इस एक्स्पो से सरकार का प्रयास यह है कि दूसरे राज्यों से आए हुए कारीगर को अपनी कला दिखाने का अच्छा अवसर मिले। इससे भोपालवासियों को कश्मीर से लेकर आंध्रप्रदेश तक की कपड़ों की कारीगरी खरीदने का अवसर मिले। इस एक्स्पो में 11 राज्यों से करीब 100 कारीगर/कलाकार आए हैं। लेकिन कोविड प्रोटोकाल और सभी प्रिकॉशन लिए जा रहे हैं। एक्स्पो स्थल में सोशल डिस्टेंसिंग, टेम्प्रेचर जांच का ध्यान रखा जा रहा है। वैसे तो इस मेले में सभी कारीगरों की खास कारीगरी मिलेगी लेकिन उत्तर प्रदेश के बनारस से आए नजीर इस बार जामदानी साड़ी और सूट लेकर आए हैं। नजीर को जामदानी का काम करते हुए करीब 40 साल हो गए हैं। नजीर अपने खानदान की चौथी पीढ़ी हैं जो इस काम को आगे बढ़ा रही है। उन्होंने बताया कि 1 जामदानी साड़ी बनाने में करीब 2 महीने लगते हैं। क्योंकि इसमे बहुत बारीक काम होता है।
हिमाचली शॉल, जैकेट, टोपी की खास पेशकश
वहीं हिमाचल के कुल्लू-मनाली से आए भागचंद इस बार हिमाचली शॉल, जैकेट, टोपी के साथ महिलाओं के लिए लॉन्ग कोट लेकर आए हैं। ये इस बार हमारी खास पेशकश है भोपाल वासियों के लिए। इस एक कोट को बनाने में मुझे 15 दिन लगते हैं। मैं अपनी परिवार की 7वी पीढ़ी हूं। हमारे लाए सभी मटेरियल बेहद रीजनेबल हैं। एक्सपो में प्रतिदिन सांस्कृतिक प्रस्तुति आयोजित की जाती है जिसमें शनिवार को बच्चों के लिए मैलोडी जंक्शन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में बच्चों ने सहभागिता की। एक्सपो में रविवार 2 जनवरी 2022 को साया बैंड की प्रस्तुति गायक विकास सिरमोलिया के निर्देशन में होगी। इसके बाद दूसरी प्रस्तुति सूफी संगीत और कबीर दास की रचनाओं पर आधारित होगी।