घबराए मत- ‘अलर्ट’सावधान रहें, १०० % हो टिकाकरण : मोदी


प्रधानमंत्री की 8 राज्यों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट को लेकर चिंता

राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ प्रधानमंत्री की वीडियो कॉन्फें्रसिंग

विशेष रिपोर्ट
राष्ट्रीय हिन्दी मेल टीम

नई दिल्ली, 13 जनवरी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार शाम सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ मीटिंग की। वीडियो कॉन्फें्रसिंग के जरिए की गई इस मीटिंग में पीएम ने मुख्यमंत्रियों से देश में कोरोना वायरस के कारण तेजी से बिगड़ रहे हालात और तैयारियों पर बात की। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे। प्रधानमंत्री ने कहा कि ओमिक्रॉन वैरिएंट पुराने सभी वैरिएंट्स के मुकाबले ज्यादा तेजी से फैल रहा है। यह अब तक संभावना से भी ज्यादा संक्रामक साबित हुआ है। हेल्थ एक्सपर्ट्स हालात का आकलन कर रहे हैं। उन्होंने चेतावनी दी कि यह स्पष्ट है कि हम सभी को ज्यादा सतर्क रहना होगा, लेकिन यह भी सुनिश्चित करना होगा कि जनता में पैनिक का माहौल न बने। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, सौ साल की सबसे बड़ी महामारी से भारत की लड़ाई अब तीसरे साल में प्रवेश कर चुकी है। मेहनत हमारा एकमात्र पथ है और विजय एकमात्र विकल्प है। हम 130 करोड़ भारतीय अपने प्रयासों से कोरोना से जीतकर जरूर निकलेंगे। ऑमिक्रोन को लेकर पहले जो संशय की स्थिति थी, वो अब धीरे-धीरे साफ हो रही है। पिछले वैरिएंट की तुलना में ओमिक्रोन तेजी से फैल रहा है। ये अधिक ट्रांसमिसिबल है। हमारे स्वास्थ्य विशेषज्ञ स्थिति का आंकलन कर रहे हैं। स्पष्ट है कि हमें सतर्क रहना है। आज भारत लगभग 92प्रतिशत वयस्क जनसंख्या को कोविड वैक्सीन की पहली डोज दे चुका है। देश दूसरी डोज़ की कवरेज में भी 70प्रतिशत के आसपास पहुंच चुका है। 10 दिन के अंदर ही भारत ने लगभग 3 करोड़ किशोरों का भी टीकाकरण कर दिया है। आज राज्यों के पास पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन है। फं्रटलाइन वर्कर्स और वरिष्ठ नागरिकों को प्रिकॉशन डोज जितनी जल्द लगेगी उतना ही हमारे हेल्थ केयर सिस्टम का सामर्थ्य बढ़ेगा। शत-प्रतिशत टीकाकरण के लिए हर घर दस्तक अभियान को हमें और तेज करना है। ओमिक्रॉन से लडऩे के अलावा, हमें इस वायरस के भविष्य के किसी भी वैरिएंट के लिए भी तैयार रहने की जरूरत है। घर में बने आयुर्वेदिक, पारंपरिक उपाय भी मददगार होंगे। कोविड स्ट्रैटेजी बनाते समय इकोनॉमी और आम लोगों की आजीविका की रक्षा करना बहुत महत्वपूर्ण है। इससे पहले रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इमरजेंसी मीटिंग की थी। वीडियो कॉन्फें्रसिंग के जरिए की गई इस मीटिंग में पीएम मोदी ने बच्चों के वैक्सीन ड्राइव को तेज करने के लिए कहा था। मोदी ने निर्देश दिया था कि जिन राज्यों में कोरोना के ज्यादा मामले आ रहे हैं उन राज्यों को टेक्निकल सपोर्ट दिया जाए। इससे पहले स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बुधवार को कहा था कि तीसरी लहर में 8 राज्य परेशानी का सबब बने हुए हैं, जहां कोविड पॉजिटिविटी रेट हाई है। ये राज्य महाराष्ट्र, बंगाल, दिल्ली, तमिलनाडु, कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, केरल और गुजरात हैं। इनमें सबसे ज्यादा 32.18प्रतिशत पॉजिटिविटी रेट बंगाल में है। इसके बाद दिल्ली में 23.1प्रतिशत और महाराष्ट्र में ये दर 22.39प्रतिशत है। चुनावी राज्य उत्तर प्रदेश में 5.71प्रतिशत पॉजिटिविटी रेट है। देश के करीब 300 जिलों में वीकली पॉजिटिविटी रेट 5प्रतिशत से ज्यादा है।