तेंदुए का मूवमेंट नहीं, ट्रैप कैमरे में नजर आया नेवला व अन्य वन्य प्राणी

शाजापुर-कालीसिंध। जिले के घुंसी के समीप नीलगाय के शिकार वाली जगह पर तेंदुआ का रात का कोई मूवमेंट नजर नहीं आया है। दरअसल, वन विभाग की टीम ने जो ट्रैप कैमरा लगाया था उसमें नेवला आदि छोटे वन्य प्राणी नजर आए हैं। अब जहां पर भी कोई शिकार करने की सूचना मिलेगी उसके समीप ही वन विभाग की टीम ट्रैप कैमरा लगाएगी।

कालीसिंध नदी क्षेत्र में विगत एक सप्ताह से ज्यादा समय से जंगली शिकारी जानवर कौतुहल का विषय बन चुका है। दो हिरणों के शिकार की सूचना पर वन विभाग की टीम ने लगातार सर्चिंग की इस दौरान करीब चार दिन पहले तेंदुआ विभाग की टीम को दिखाई दिया था। इसके बाद से फुटमार्क के आधार पर विभाग की टीम लगातार पीछा कर रही है। घुंसी के समीप एक नीलगाय के शिकार की सूचना पर वन विभाग की टीम ने शनिवार की शाम को एक ट्रैप कैमरा भी लगाया था। सभी को सुबह होने का इंतजार था क्योंकि ट्रैप कैमरा में तेंदुए के फुटेज आने की संभावना थी। लेकिन तेंदुए का रात में उस स्थान पर कोई मूवमेंट नजर नहीं आया। कैमरा में नेवला दिखाई दिया तो सुबह सवेरे वहां पर सियार व लकड़बग्घा की आवाज भी ग्रामीणों को सुनाई दी। ऐसे में वन विभाग की टीम के रेंजर एसपी मैथानी, डिप्टी रेंजर नवनीत चौहान एवं अशोकसिंह बघेल, वन रक्षक सीताराम तिवारी, कमलेश सोनी, सचिन पाटीदार एवं रेस्क्यू एक्सपर्ट हरिश पटेल फिर से सर्चिंग में जुट गए हैं। उल्लेखनीय है कि वन विभाग की टीम जिले के घट्टिया, घुंसी, झंड़ाखेड़ा ,धतुरिया ,रूपापुरा, पिपलिया इंदौर,हिम्मतखेड़ा, देवलाबिहार सहित क्षेत्र कालीसिध् नदी का इलाका व आसपास सर्चिंग कर रही है।