केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने देशवासियों से बेटियों की उपलब्धियों का जश्न मनाने का आह्वान किया

केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने देशवासियों से बेटियों की उपलब्धियों का जश्न मनाने का आह्वान किया और एक समावेशी व बराबरी वाला समाज बनाने के लिए लैंगिक भेदभाव खत्म करने का संकल्प लेने को कहा

देशभर में आज राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया गया। ऐसे में केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने देशवासियों से बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने का आह्वान किया। साथ ही लोगों से लैंगिक भेदभाव को खत्म कर एक समावेशी और बराबरी वाला समाज बनाने का संकल्प लेने को कहा।

श्रीमती ईरानी ने अपने एक ट्वीट संदेश में कहा, ‘शिक्षित करें, प्रोत्साहित करें, सशक्त करें! आज का दिन हमारी बेटियों को समान अवसर प्रदान करने की अपनी प्रतिबद्धता के नवीकरण का दिन है। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर, हम अपनी बेटियों की उपलब्धियों का जश्न मनाते हैं और हम एक समावेशी और बराबरी वाला समाज बनाने के लिए लैंगिक विभाजन को पाटने का संकल्प लेते हैं।’

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001V70L.png

भारत की बालिकाओं को समर्थन और अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से हर साल 24 जनवरी को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता बढ़ाना और बालिका शिक्षा, उनके स्वास्थ्य व पोषण के महत्व के बारे में जागरूक करना और समाज में लड़कियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए समाज में लड़कियों की स्थिति को बढ़ावा देना है। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत पहली बार 2008 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा की गई थी।